Saturday, 22 November 2014

सब सुख-सुविधाएँ होने पर भी व्यक्ति अस्वस्थ और परेशान क्योँ है

यह  एक  अत्यंत  आश्चर्य  की  बात  है  कि  जिसके  पास  बहुत  धन-सम्पति  है,  सारी  सुख-सुविधाएँ  हैं,  इलाज  के  लिए  अनुभवी  चिकित्सक  उपलब्ध  हैं,  मनोरंजन  के  सभी  साधन  सरलता  से  उपलब्ध  हैं  फिर  भी  वह   अस्वस्थ  है,  तनावग्रस्त  है,  सुख  पाने  के  लिए  इधर-उधर  भटक  रहा  है  ।
    यह  बहुत  सोचने-विचारने  का  विषय  है  कि  अपार  संपदा  है,  56  व्यंजन  खाने  के  लिए  हैं  लेकिन  अस्वस्थ  हैं  ! खा  नहीं  सकते   ।  अनेकों  भवन,  महल  खड़े  कर  लिए  लेकिन  हाथ-पैर  इतने  कमजोर  हो  गये  कि  एक  कमरे  में  ही  चलना  मुश्किल  है  ।
         क्या  ऐसा  नहीं  हो  सकता  कि  हमारे  पास  पर्याप्त  धन  भी  हो  और  हम  स्वस्थ  व  प्रसन्न  हो,  कोई  तनाव  न  हो,  हमें  दूसरों  को  दिखाने  के  लिए  कि  हम  सुखी  हैं,  हमें  कोई  मुखोटा  न  लगाना  पड़े  ?
      ऐसा  संभव  है   यदि  हम  केवल  एक  बात   मान  लें,  वह  है------- ' कर्तव्य-कर्म  का  श्रेष्ठता  से  पालन '
यदि  समाज  का  प्रत्येक  व्यक्ति   अपने  कर्तव्य  का  पालन  करे,   अपने  दायित्वों  को  निभाए   तो  अधिकांश  समस्याएँ  हल  हो  जाएँ   ।
         जब  व्यक्ति  कामचोरी  करता  है,  असीमित  इच्छाओं  को  पूरा  करने  के  लिए  गलत   ढंग  से  पैसा  कमाता  है  तो  हमारे  हर  क्षण  की  खबर  रखने    वाली  प्रकृति  माँ  नाराज  हो  जाती  हैं  और  उनकी  यह  नाराजगी  ही  विभिन्न  कष्टों-तनाव  आदि  विभिन्न  रूपों  में  सामने  आती  है   ।
मनुष्य  सोचता  है  कि  चाहे  जितनी  मनमानी  करो,   गलतियाँ  करो  भगवान  को  भोग  लगाकर,  फूलमाला  चढ़ाकर,  प्रार्थाना  करके  प्रसन्न  कर  लेंगे  लेकिन  ईश्वर   किसी  आफिस  का  बॉस  नहीं  है , वह  तो  सर्वसमर्थ  परमेश्वर  है   उन्हें  हम  अपनी  श्रेष्ठ  भावनाओं  और  पवित्र  आचरण  से  ही  प्रसन्न  कर  सकते  हैं  । 

No comments:

Post a comment