Sunday, 23 November 2014

यदि स्वस्थ रहना है तो क्रोध कम करें

आज  के  इस  वैज्ञानिक  युग  में  लोगों  को  क्या  हो  गया   ? कुछ  समझ  नहीं  आता  !  धन,  भौतिक  सुख-सुविधाएँ  जुटाने  के  लिए  व्यक्ति  हर  तरह  के  हथकंडे  इस्तेमाल  कर  रहा  है,  लेकिन  जिस  शरीर  से  उन  सुख-सुविधाओं  का  उपभोग  करना  है  उसी  के  प्रति  व्यक्ति  लापरवाह  हो  गया  है   ।
       जिम  जाने,  योग,  आसन,  प्राणायाम  करने  से   दिखने  में   चाहे  व्यक्ति  स्वस्थ  दिखे  लेकिन  क्या  अंतस  भी  उतना  ही  स्वस्थ  है    ?
     कोई  व्यक्ति  शरीर  से  बिलकुल  स्वस्थ  है,  धन-सम्पति  भी  बहुत  है, बड़ा  मकान,  आधुनिक  सुख-सुविधाएँ  सब  कुछ  हैं  लेकिन  बात-बात  में  क्रोध  आता  है, घर-परिवार  में  लड़ाई-झगड़ा,  अशांति  है  तो  ऐसी  सुख  सुविधाएँ,  ऐसा  स्वास्थ्य  सब  धूल  के  समान  है    ।
       प्रश्न  ये  है  कि  क्रोध  को  कम  कैसे  करें   ?    हमें  सबसे  पहले  यह  समझना  होगा  कि  क्रोध  से  नुकसान  किसका  हुआ   ?  जिसने  क्रोध  किया  उसी  का  ब्लडप्रेशर  हाई  हुआ,   क्रोध  की  अग्नि  में  उसी  का  खून  जला  । सारा  नुकसान  तो  क्रोध  करने  वाले  का  होता  है,  फिर  क्रोध  के  कारण  सारी  सुख-सुविधाओं  में  भी  कोई  आनंद  नहीं  है   ।   जब  भी  आपको  क्रोध  आये  तो  अपना  चेहरा  शीशे  में  देखना  चाहिए,  कैसे  नथुने  फूल  जाते  हैं  !  नाक  मोटी  हो  जाती  है,  क्रोध  से  चेहरा  काला  पड़  जाता  है,  कितनी  गंदी  शक्ल  हो  जाती  है  !   यदि  बहुत  क्रोध  आता  है  तो  फिर  चेहरा,  स्वास्थ्य  सब  निश्चित  रूप  से  बुरा  हो  जाता  है  ।
   भगवान  ने  हमें  इनसान  बनाया,   हमारा  प्रयास  यह  हो  कि  हम  भीड़  से  अलग  दिखें,  अपना  स्वास्थ्य  अपने  हाथों  बिगाड़ने  की  मूर्खता  न  करें   ।   हर  समस्या  में  एक  सकारात्मक  पक्ष  भी  होता  है,  यदि  हम  अपनी  द्रष्टि  सकारात्मक  पक्ष  पर  केन्द्रित  करेंगे  तो  धीरे-धीरे  क्रोध  आना  कम  हो  जायेगा  ।
       अपने  अहंकार  की   पूर्ति  के  लिये  कभी  क्रोध  न  करें,  इससे  क्रोध  करने  वाले  का  ही  नुकसान  है  ।
हम  ईश्वर  से  प्रार्थना  करें  कि    हमें  सद्बुद्धि  दें,  विवेक दें  ---  मन  को  शांति  दें   । 

No comments:

Post a comment