Friday, 7 November 2014

स्वस्थ रहने के लिए दवा नहीं दुआ की जरुरत है

हमारा  प्रयास  यह  हो  कि  हम  बीमार  ही  न  पड़ें  । अपनी  सुविधा  के  अनुसार  किसी  भी  एक  निष्काम  कर्म  को  हम  अपनी  दिनचर्या  में  सम्मिलित  करें, उसे  अपने  जीवन  का  अनिवार्य  अंग  बना  लें  । यह  कार्य  बोझ  समझकर  या  यश  प्राप्त  करने  के  लिए  नहीं  हो,  हमारी  भावना  पवित्र  होनी  चाहिए  ।
  व्यक्ति  के  श्रेष्ठ  कर्म  ढाल  बनकर  उसकी  रक्षा  करते  हैं  ।  हमारे  प्रारब्ध  में  कोई  बीमारी  या  दुर्घटना  है  तो  वह  तो  होगी  लेकिन  हम  उसमें  बच  जायेंगे,  हमारा  कोई  भी  नुकसान  नहीं  होगा   ।
            पूजा-पाठ,फूलमाला चढ़ाना  आदि  विभिन्न  कर्मकांड  से  भगवान  कभी  प्रसन्न  नहीं  होते,  भगवान  प्रसन्न  होते  हैं---- सत्कर्मो  से   ।   हम  अपने  दिन  की  शुरुआत  निष्काम  कर्म  से  करें   । 

No comments:

Post a comment