Tuesday, 4 November 2014

गहरी नींद सोएँ और स्वस्थ रहें

' नींद  के  बिना  वैभव  की  सेज  भी  चुभती  है, परंतु  नींद  में  कठोर  जमीन  भी  सुंदर  सेज  सी  प्रतीत  होती  है   । '   नींद  कुदरत  की  सबसे  खूबसूरत  देन  है  ।
सोने  से  पहले  कुछ  बातों  का  ध्यान  रखिए-----
1. जो  कुछ  बीत  चुका  है,  उसे  भूल  जायें  । बीता  हुआ  समय  कभी  लौटकर  नहीं  आता  इसलिए  बीती  बातों  पर  खुश  होने  या  दुःखी  होने  का  कोई  अर्थ  नहीं  ।
2. मन में  यह  निश्चय  कीजिये  कि  आप  को  कितने  बजे  उठना  है  ।  मन  में  यह  अटूट  विश्वास  रखिये  कि  एक  ' नई  सुबह '  होगी  । सब  कुछ  अच्छा  होगा  ।
3. अब  आप  लेट  जायें  और  लेटे-लेटे  ही  मन  में  प्रार्थना  करें----- " हे  निद्रा  देवी ! मुझे  अपनी  गोद  में  सुला  लीजिये  । "  कम-से-कम  दो  या  तीन  बार  यह  प्रार्थना  करें  ।
4. अब  लेटे-लेटे  ही  गायत्री  मंत्र  का  जप  कीजिए---- ॐ  भूर्भुव: स्व: ……।  आपको  पता  ही  नहीं  लगेगा  कि  कब  नींद  आ  गई  ।  निश्चित  समय  पर  आप  उठेंगे  और  स्वयं  को  बहुत  हल्का  महसूस  करेंगे  । 

No comments:

Post a comment