Tuesday, 13 January 2015

मन की शांति हमरे ही पास है

मन  की  शांति  के सारे  सूत्र  हमारे  पास   हैं  लेकिन हम  उनकी ओर   से  आँख  बंद  किये   हैं    । यदि  केवल  एक सूत्र को  ही जीवन  में  अपना  लें    कि  ' अब हम  दिखावा नहीं   करेंगे  '  तो  हमारी  अधिकांश  समस्याएं  हल  हो  जायें  और   मन   भी  शांत  रहे  
' जो  कुछ  हमारे पास  ही  हम  उसमे   संतुष्ट  रहेंगे  और अपनी  तरक्की  के  लिये  सही  दिशा  में  प्रयत्न करेंगे '    इस  बात  को    मानकर    यदि  हम   रहें  तो  मन  शांत    रहेगा  |   ।                                                  यदि  किसी  की  आय  कम  है  और  वह  मित्रों    में,  रिश्तेदारों  के  बीच  स्वयं  को  अमीर  दिखाना  चाहता है  तो  इसके  लिए  वह  दूसरों  का  हक  छीन  कर,  भ्रष्ट  तरीके   से  धन  कमाना  शुरू  कर   देगा,  और  यहीं  से  जीवन  अशांत हो  जायेगा   ।
मनुष्य  शांति की  तलाश  में  इधर-उधर  भटक  रहा  है  लेकिन  अपने  स्वभाव  मे   थोड़ा  भी  परिवर्तन  करना  नहीं  चाहता   ।
 सोच-विचार  में  परिवर्तन से   शांति  संभव  है  । 

No comments:

Post a comment