Saturday, 31 January 2015

निष्काम कर्म क्यों जरुरी है

जीवन  में  सुख-शांति  और  सफलता  प्राप्त करने  के  लिए  निष्काम  कर्म  को  अपनी दिनचर्या  में  सम्मिलित  करना  होगा  |  इस  संसार  में  ऐसे  लोगों  की  संख्या  बहुत  अधिक  है  जो  दूसरों   की   खुशी,  दूसरों  के  धन,  सफलता  और  व्यक्तित्व  से  बहुत  अधिक  ईर्ष्या  करते  हैं  और  सम्मिलित  रूप  से  कछुए  की  भांति  जो  व्यक्ति  आगे  बढ़  रहा  है  उसे  खींचकर  गिराने  का  प्रयास  करते  हैं  ।
    ऐसे  व्यक्तियों  का  सामना  आप  केवल  अपनी  ताकत  से  नहीं  कर  सकते,  ऐसे  लोग  क्या  हथकण्डे  अपना  रहे,  क्या  षडयंत्र  रच  रहे  यह  अपनी  दो  आँखों  से जानना  बहुत  कठिन  है,  साथ   के  लोगों  का भी  भरोसा  नही  किया  जा  सकता,  धन  के  लालच  मे  कब  कौन  धोखा   दे  दे  ।
     इन   लोगों   की   कुटिल  चालों  से     केवल    ईश्वरविश्वास  ही   आपकी  रक्षा  कर  सकता  है |
हमारा  ईश्वरविश्वास तब  ही  सफल  होगा , प्रकृति- ईश्वर   हमारी  तभी  मदद   करेंगे  जब  हम  नि:स्वार्थ  सेवा  का  कोंई  काम   करके  उनकी  इस  बगिया  को  सुन्दर  बनाने  का,  किसी  को  खुशी  देने  का  काम करेंगे    ।  दुकान  से   भी हम  कोई  वस्तु  खरीदते  हैं  तो  उसकी  कीमत  चुकाते  हैं,  प्रकृति  से  मदद  मिलने  की  कीमत--- निष्काम  कर्म  है  ।
  निष्काम कर्म  ही  संसार में  और  अध्यात्म  में  सफलता  प्राप्त  करने  का  पहला  क़दम  है  ।  निष्काम  कर्म  से  मन निर्मल  होने लगता,   हमारे  विकार  दूर  होने   लगते  हैं,  हमे  स्वयं  अपनी  अंतरात्मा  से  सही  दिशा में  कार्य  करने  की  प्रेरणा  मिलने  लगती   है  । निष्काम  कर्म  मे  वह  शक्ति  है  जो  लोगों  की कुटिल  चालों  को  विफल  कर  दे  । 

No comments:

Post a comment