Wednesday, 7 January 2015

सुख-शांति से जीने के लिए जरुरी है--- कष्टों को खुशी से स्वीकार करें

जीवन  में  जब  भी  दुःख  या  कष्ट  आयें  तो  हम उन्हें  सहजता  से  स्वीकार  करें
सामान्यत:  जब  कोई कष्ट  होता  है  तो    हम  उसी  की सबसे  चर्चा करते  है,  जिससे  नकारात्मकता  बढ़ती  है  जैसे---- किसी  को  हार्ट  अटैक  हुआ  या  दुर्घटना  में   घायल  हो  गये   |  अब  सब  मित्र,  रिश्तेदार  देखने  आयेंगे  तो  सबसे  वही  बीमारी,  कष्ट  की  चर्चा,  फिर  आने  वाले  भी  अपने  साथ  हुई  ऐसी  समस्याओं  की  चर्चा  करेंगे   । यह  सब  चर्चा  न  केवल  एक  दिन  बल्कि  कई  दिन  चलेगी   ।   इस  प्रकार  सहानुभूति  के  रूप  में  आपके  पास  नकारात्मकता  का  पहाड़  इकठ्ठा  हो  गया,  बार-बार  बोलने  में  ऊर्जा  खर्च  हुई  फिर  आने  वालों  का  कुछ  सत्कार  भी  करना  पड़ा---- मुसीबत   पर मुसीबत  हो  गई  ।
  परस्पर व्यवहारअपनी  जगह  है,  लेकिन  कष्ट  तो आ  ही  गया  है,  अब    उसकी    बार-बार  चर्चा करने  के  बजाय  अपना समय    ईश्वर  की  प्रार्थना,  मंत्र  जप,  ध्यान  में  लगायें,यह  सोचें  कि  कौन  से   नेक   कर्म  करें  जिससे  ये  कष्ट  कम  हो  जायें  । यदि  चलने-फिरने  में  असमर्थता   है    तो  भजन,  प्रवचन   सुने ,  अपने आस-पास  सकारात्मक उर्जा  इकट्ठी  करें,  जिससे कष्ट  में  भी  मन  शांत  रहेगा   । 

No comments:

Post a comment