Thursday, 3 September 2015

धन , प्रभुत्व और प्रतिभा का सदुपयोग कर के ही शान्ति संभव है

 धन , प्रभुत्व   और   प्रतिभा  का  सदुपयोग  कर  व्यक्ति   '  देवता '  समान  पूजा  जा  सकता  है,  वह  सिर  उठाकर,  निडर  होकर   शान्ति  से  जीवन  ज़ी  सकता  है    लेकिन  उसी   का  दुरूपयोग  कर  व्यक्ति ' राक्षस ' ,  और   नर-पशु   बन  सकता  है  | ऐसा  बनने  पर  शान्ति  संभव  नहीं  है,  अब  वह  सुरक्षित  गाड़ियों  में,  गार्ड  की  सुरक्षा  में   भी  भयभीत  रहेगा  ।
   व्यक्ति   के  जीवन  की  दिशा    कैसी  हो  ,  यह  उसके  विवेक  पर  निर्भर  करता  है  ।  आज  सर्वत्र  दुर्बुद्धि  का   साम्राज्य  है  ,  व्यक्ति  अपने  पद,  योग्यता  और  धन  का  दुरूपयोग  कर  रहा  है  इसीलिए  सब  तरफ  अशान्ति,  अपराध,  भ्रष्टाचार  जैसी  नकारात्मक  घटनाएं  ही   सुनने   और  पढ़ने  में  आती  है  ।   देश-दुनिया  में  अनेक  अच्छे  लोग  भी  हैं  जो  इन  ईश्वरीय  देन  का  सदुपयोग  कर   रहें  हैं   ।   लेकिन  दुष्टता  इतनी  संगठित  है  कि  वह  अच्छाई  को  सामने  आने  नहीं  देती  ।
   इस  समस्या  का  हल  क्या  हो  ?  समाज  में  सकारात्मकता  कैसे  बढ़े  ?  कैसे  लोगों  में  विवेक  जाग्रत  हो  कि  वे  अपने  धन, पद  और  प्रतिभा  का  उपयोग  स्वयं  के  जीवन  को  श्रेष्ठ  बनाने  के  साथ   जन-कल्याण
  के  लिए  करें  ?
   ईश्वर  हों  या  अवतार  वे  अपने  चरित्र  से,  अपने  व्यवहार  से  समाज  को  शिक्षण  देते  है-----
 भगवान  शिव  ने  हलाहल  विष  को  अपने  कंठ  में  धारण  किया,  न  उगला,   न  पिया  ।
            शिक्षण  यही  है  कि  नकारात्मकता   को,  विष  जैसी  जहरीली  बातों  को  न  तो  हम   अपनाएं  और  न  ही  उनकी  बार-बार  चर्चा  करें  ।   अपने  परिवार  में,  मित्रों  में,  कार्यालय  में  फुर्सत  के  क्षण  में  हमेशा   सकारात्मक  चर्चा  करें,  समाज  में  जो  लोग  श्रेष्ठ  कार्य  कर  रहें  हैं  उनकी  चर्चा  करें  ।    इसी  तरह  समाज  में  सकारात्मकता  बढ़ेगी  । 

No comments:

Post a comment