Sunday, 27 September 2015

संसार और अध्यात्म दोनों के समन्वय से ही शान्ति संभव है

भौतिकता  के  क्षेत्र  में  हम  कितना  ही  आगे   क्यों   न  बढ़  जायें  जब  तक  जीवन  में   सच्चे  अध्यात्म  का  प्रवेश  नहीं  होगा  शान्ति  संभव  नहीं  है  ।   आज  के  समय  में  प्रत्येक  व्यक्ति  स्वयं  को  अध्यात्मिक  होने  का  दावा  करता  है-------    निश्चित  समय  पर  अपने   धर्म   के  अनुसार  कर्मकांड  कर  लिए,  किन्ही   बाबा-बैरागी   के  शिष्य  बन  गये  ,  उन्हें  दान-दक्षिणा  दे   दी,  अपने-अपने  धर्म  के  अनुसार  कुछ  समय  के  लिए  भोजन-पानी  छोड़  दिया------- यह   अध्यात्म   नहीं  है   ।
संसार  में  अनेक   धर्म    है  और   हम  सबके  महान  धर्म  गुरुओं  ने  नैतिकता  के  अनेक  सिद्धांत  बतायें  है,  जब  तक़   हम  उनके  द्वारा   बताये   गये  श्रेष्ठ  सिद्धांतों  को------ दया,  करुणा,  संवेदना,   सहयोग,  सहानुभूति,  प्रेम,  कर्तव्यपालन,   ईमानदारी,  सत्य  बोलना  आदि  मानवीय  मूल्यों   को     अपने  जीवन  में,  अपने  व्यवहार  में    नहीं  लाते  तब  तक   हम   आध्यात्मिक  नहीं  हैं  ।
        धन  कमाने  और   सुख-सुविधाओं   का  जीवन  जीने  के  साथ  हम  इनसान  बने  ।   जब  कोई  व्यक्ति  अपराध करता  है,  मानवीय  आचरण  के   विरुद्ध  कोई  काम  करता  है  तो  समाज  में  उसका  मूल्यांकन,  उसके  धर्म  के  साथ  जोड़कर   किया  जाता  है  कि--- अमुक  धर्म  का   है  इसलिए  ऐसा  है  ।
हमारे  कार्य,   हमारा   आचरण  ही  हमारे  धर्म   को  प्रतिबिम्बित  करता  है  ।   इसलिए  यदि  आपकी  अपने  धर्म  में  निष्ठा  है,   अपने   ईश्वर  में  विश्वास   है  तो  धर्म  में  बताये  गये  श्रेष्ठ  सिद्धान्तों  के  अनुसार  आचरण  करें  ।   ऐसा  होने  पर  ही  शान्ति  संभव   है    । 

No comments:

Post a comment