Tuesday, 29 September 2015

शान्ति से जीने के लिए संवेदनशील होना जरुरी है

 शान्ति  से  जीने के लिए  प्रकृति  के  सन्देश  को  समझना  होगा----- जिनके  पास  अपार  धन-सम्पदा  है---- उनके  लिए  प्रकृति  का  यही  सन्देश  है  कि  स्वयं   ठाठ-बाट  से  रहो,  सब  सुख-सुविधाओं  का  उपभोग  करो,  इसके  साथ  अपने  धन  का  एक  भाग  निर्धनों,  विकलांगों,  विस्थापितों,  को  आत्मनिर्भर  बनाने,  दीन-दुःखियों  की  पीड़ा  दूर  करने  में  खर्च    करो  ।   जो  ऐसा  नहीं  करते  उनका  धन  उन्ही  के  जीवन  में  अशांति  उत्पन्न  करता  है  ।
  इस  सत्य  को  समझना  होगा  कि   पास  के   जंगल  में आग  लगी  हो  तो  धुआं  हमारे  पास  आयेगा  और  वातावरण  प्रदूषित  होगा  ।   जो  समर्थ  हैं,  संपन्न  हैं  वो  केवल  अपनी  सुरक्षा में  लगे  रहें,  इससे  बेहतर  यह  होगा  कि  वे   समस्या  को  हल  करें  ।
  जनसंख्या  का  एक  बड़ा  भाग   गरीबी  और  भूख  से  पीड़ित  है  तो  वातावरण  में  धुएं  की  तरह   उनकी  आहें,  उनके   दुःख  भरे  रहते  हैं  ।   स्वयं   शान्ति  से  जीना  है  तो   गरीबों  को  एक  दिन  का  भोजन  देने  के  बजाय  उन्हें  आत्मनिर्भर  बना   दे  ,  पुरुषार्थी  बना  दें  ताकि  सारा  जीवन  वे  अपने   भोजन  की  स्वयं  व्यवस्था  कर  सकें  । 
  आज  सारे  संसार  में  कितने  अमीर  लोग  हैं    जिनके   पास  करोडों,  अरबों  रुपया  जमा  है,  ईश्वर  ने  उन्हे  नेकदिल  इनसान  बनने  के,  देवता   की  तरह   पूजे  जाने  के,  इतिहास  मे   अपना   नाम  अमर  कराने  के  लिये  ये  बुद्धि  और  सम्पदा  दी  है   ।   चुनाव   आपके  हाथ  में  है---- चाहे   तो  शोषक  बनकर     गरीब  और  मजबूर  की   आहें  इकट्ठी   कर  लो   या  इनसान    बनकर  अपने  लिए  और  अपनी  आने  वाली  पीढ़ियों  के  लिए  दुआएं   इकट्ठी   कर  सुख-शान्ति  से  रहो  । 

No comments:

Post a comment