Monday, 21 September 2015

PEACE

शान्ति   के   लिए  व्यक्ति   इधऱ -उधर   भटकता   है ,  लेकिन   शान्ति   नहीं   मिलती  । इसके   अनेक   कारण   हैं  ।  जो   दुष्प्रवृति   के   लोग   हैं  ,   उनकी   यह   प्रकृति   बदलती  नहीं  ।  उनके   ऊपर   चाहे   कितनी   मुसीबतें   आ   जायें , चाहे   सजा   हो   जाये ,  उनका   स्वभाव   बदलता   नहीं   है  ।  बिच्छू   का   स्वभाव   डंक   मारने   का   है   वह   मारेगा   ही   ।
दुर्योधन   को   समझाने    भगवान   कृष्ण   स्वयं   गये ,  लेकिन   वह   माना   नहीं ,  सुई   की   नोक   बराबर   जमीन   भी  नहीं   दी ,  आखिर   महाभारत   हुआ   ।
जब   तक   व्यक्ति   स्वयं   सुधरना   न   चाहे ,  उसे   कोई   नहीं   सुधार   सकता  ।
आज  ऐसी   दुर्बुद्धिग्रस्त   लोगों   की   अधिकता   है ,  इस   कारण   दुनिया   में   अशांति   है   ।
      यह  अशांति   कैसे   दूर   हो   ?
इसके  लिए   जरूरी   है   कि   सकारात्मक   सोच   के ,  श्रेष्ठता   की  राह   पर   चलने  वाले   संगठित   हो   जायें  ।  जब   हर   संस्था   में ,  प्रत्येक   क्षेत्र   में   सच्चाई   और   ईमानदारी   से   कर्तव्यपालन   करने   वाले   संगठित   हो   जायेंगे   तो   दुष्प्रवृति   के    लोग  छुपते   फिरेंगे   ।  गलत   राह   पर   चलने    वाले   भीतर   से  डरपोक  व  कायर   होते  हैं  ।  जब   श्रेष्ठता   को   संगठित   देखेंगे    तो   गलत  कार्य   करने   की  हिम्मत   नहीं  करेँगे   ।  इसी   तरह   धरती   पर    शांति  और   सुख   का   साम्राज्य   होगा   । 

No comments:

Post a comment