Thursday, 10 September 2015

अपनी बुराइयों को दूर करके ही शान्ति संभव है

आज  के वातावरण  में  हम  समाज में  शान्ति  की  उम्मीद  नहीं  कर  सकते  क्योंकि  जिन  दुष्प्रवृत्तियों  की  वजह से  अशान्ति  है  उन्हें  रोकना  या  कम  करना  बहुत  ही  मुश्किल  काम  है  |  सभी  धर्मों  में  शराब,  मांस,  सिगरेट   का  निषेध  किया  गया  है,   लेकिन  इनके  विरुद्ध  आन्दोलन  चलाकर,  प्रवचन  देकर  आप  एक  सामान्य   उपभोक्ता  को  ही   समझा   सकते  हैं,   इन  वस्तुओं  का  कारोबार  जो  सारे  संसार  में  फैला  है,  करोड़ों-अरबों  रूपये  का  है,  उन्हें  समझाने  के  बारे  में  कोई  सोच  भी  नहीं  सकता   |
  ऐसे  वातावरण  में  रहकर  हमें  स्वयं  को  शान्त  रखना  है  |
   इसका  एक  ही  तरीका  है ---- नियमित  सत्कर्म  करें,   निष्काम  भाव  से  सत्कर्म करने  से  मन  निर्मल  होता  है,  सद्बुद्धि  आती  है,  नशा,  मांस  आदि   में  अरुचि  होने लगती  है,  पुण्य  कर्म  ही  कवच    बनकर  रक्षा  करते  हैं   |

No comments:

Post a Comment