Wednesday, 16 September 2015

शान्ति से जीना है तो सत्कर्म करें

परिस्थितियों  को  दोष  देने  से  कभी  कोई  समस्या  हल  नहीं  होती   ।  आज   के  इस  आपाधापी  के  युग  में  यदि  आप   शान्ति  से  जीना  चाहते  हैं  तो  एक  ही  रास्ता   है ------ अपने  दैनिक  जीवन  के  विभिन्न  कार्यों  में  एक  कार्य ---' सत्कर्म '  को  सम्मिलित  कीजिये,   सत्कर्म  करने  कों  अपनी  आदत  में  सम्मिलित  करें,  उसे  बोझ  समझ  कर  नहीं  करें  ।   परिवार    के  बच्चों  की  भी   बचपन  से  पक्षियों  को  दाना-पानी  देने  की  आदत  डालें  ।
  देखने  में  ये  कार्य  छोटे  होते  है  किन्तु  इनका  प्रभाव  सकारात्मक  होता  है--- जीवन  में  आने  वाली  बाधाओं,  दुर्घटनाओं  से  हमारी  रक्षा  होती  है,  जीवन  में  सफलता  मिलती  है  ।   निस्वार्थ  भाव  से  सत्कर्म  करने  से  जीवन  ऊँचाइयों  की  ओर  बढ़ने  लगता   है   । 

No comments:

Post a Comment