Monday, 7 September 2015

HOW TO BE HAPPY

खुश   रहना   है   तो   ईर्ष्या   को   छोड़ना   होगा   ।   दूसरों   के   पास    क्या   है ,  यह   देखकर   हम  न   ईर्ष्या   करें   और   न   परेशान   हो ,  जो  कुछ   अपने   पास   उपलब्ध   है ,  उसकी   ख़ुशी  मनाएं   ।   इस   धरती   पर   प्रत्येक  व्यक्ति   अपना   भाग्य   लेकर   आता  हैं   और   अपने   पुरुषार्थ   से   उसे   संवारता   है   ।
       किसी   से   ईर्ष्या   करके   हम   उसके   भाग्य   के    लेख    को   मिटा   नहीं   सकते    ।  ईर्ष्यालु   व्यक्ति   स्वयं   अपना   अमूल्य   समय   व   ऊर्जा    ईर्ष्या   में   नष्ट   कर   लेता   है   ।
ईश्वर   ने   जो   कुछ   हमें   दिया   है ,  जब   तक   हम   उसके   महत्व   को   नही   समझेंगे ,  उसे   सबसे   कीमती   नहीं  समझेंगे   तब   तक   ईर्ष्या   दूर   नहीं   हो   सकती    | 

No comments:

Post a comment