Friday, 4 September 2015

सुख-शान्ति से जीने के लिए लोक-कल्याण हेतु समय व श्रम का दान भी करें

  धन  के  दान  का  अपना  महत्व  है,   लेकिन  आज  जब  भ्रष्टाचार  अपनी  चरम  सीमा  पर  है  तब  धन-राशि  के  दान  से  हम  कोई  पुण्य  की,  अपने  जीवन  में  शान्ति  की  उम्मीद  नहीं  कर  सकते   ।
  यदि  आप  किसी  लोक-कल्याण  के  कार्य  मे   निष्काम  भाव  से   अपना  समय  व   श्रम  व्यय  करते   हैं  तब  ईश्वरीय  कृपा  को  आप  अपने  जीवन  में  हर  पल  महसूस  करेंगे  ।
   कभी-कभी  ऐसा  होता  है  कि   हम  दान-पुण्य  करना  तो   चाहते   हैं  लेकिन  समझ  में  नहीं  आता  कि  कहां  और  कैसे  दान  करें  कि   वह  दान  सार्थक  हो  जाये  ।   ऐसे  में  हम  उस  अज्ञात  शक्ति  से  प्रार्थना  करें  कि  वे  हमारा  मार्गदर्शन  करे,  हमें  पुण्य  कार्य  करने  का  सौभाग्य  प्रदान  करें  ।  पुण्य  कार्य  भी  व्यक्ति  ईश्वर  की  कृपा  से  ही  कर   पाता  है,  हमारे  ह्रदय  में  सत्कर्म  करने  की  तीव्र   इच्छा  होनी
 चाहिए  । 
           

No comments:

Post a Comment