Sunday, 10 April 2016

समाज में अशान्ति का कारण है व्यक्ति - पूजा

     आज  के  समय  में  लोगों  में  धैर्य  की  कमी  है  ,  अपनी  योग्यता  से  सीढ़ी-दर-सीढ़ी  आगे  बढ़ने  का  ,  तरक्की  करने  का  धैर्य  किसी  के  पास  नहीं  है  l प्रत्येक  व्यक्ति  रातोंरात  अमीर  होना  चाहता  है  और  इसके  लिए  ऐसे  लोग  नेताओं  की ,  अधिकारियों  की , शक्ति - संपन्न  लोगों  की  खुशामद  करते  रहते  हैं  l
अपना  स्वार्थ  पूरा  हो  जाये  फिर  चाहे  देश  का , समाज  का ,  प्रकृति  का  कितना  ही  नुकसान  क्यों  न  हो  जाये  ।  ऐसे  ही  लोगों  की  अधिकता  है  ,  अब  कौन  किसे  दण्ड  दे  ?
इसलिए  अब  प्रकृति  नाराज  हो  गई   है   l  सुख - शान्ति  से  जीने  के  लिए  जरुरी  है  कि  केवल  स्वयं  अमीर  बनकर  न  रहें ,  अपने  धन  का  कुछ  भाग  सेवा  कार्यों  में  खर्च  करें  ,  लेकिन  इसमें  दिखावा  न  हो  जरूरतमंद  को  रोटी - रोजी  मिले ,  उनका  शोषण  न  हो  l  सत्कर्म  करने  से  ही   नकारात्मकता  दूर  होगी  । 

No comments:

Post a comment