Monday, 4 April 2016

समाज में शान्ति के लिए बड़े बदलाव की जरुरत है

  जब  तक  हम  आजाद  नहीं  थे  तब  तक  हर  समस्या  का  दोष  विदेशी  शासन  पर  मढ़  दिया  जाता  था  ,   लेकिन  अब  जब  हम  आजाद  हैं  तो  इन  विभिन्न  समस्याओं  का  दोष  किसे  दें  ?  
  वर्षों  तक  गुलामी  की  जंजीरों  में  जकड़े  रहने  के  कारण  चेतना  सुप्त  हो  गई  है  ,  स्वतंत्रता  को  मर्यादित  ढंग  से  कैसे  उपभोग  करें  ,  यह  समझ  न  सके  इसलिए  स्वतंत्रता ,    स्वछन्दता  में  बदल  गई  ।   महिलाओं  को  स्वतंत्रता  मिली  तो  विचार  परिष्कृत  नहीं  हुए  ,  सोचने  समझने  का  दायरा  नहीं  विकसित  हुआ  ,  आधुनिक  पहनावा ,   फ़िल्मी   अमर्यादित  जीवन  को  ही  स्वतंत्रता  समझ  लिया  ।  इसी  तरह  चाहे  राजनीति   का  क्षेत्र  हो  या  नौकरी - व्यवसाय   हो ,  बहुत  दिनों  में  आजादी  मिली  तो  खूब  लूटो -खाओ ,  भ्रष्टाचार  करो --- इसे  ही  स्वतंत्रता  समझा  ।
पारिवारिक  क्षेत्र  में  --- संयुक्त  परिवार  थे  ,  त्याग  की  भावना  थी  लेकिन  आजादी  का  यह  अर्थ  समझा  कि  अब  पारिवारिक  दायित्वों  को  नहीं  निभाना  है  ,  बच्चों  को  भी  नौकरों  से  पलवाना  है  ,  योग  कर  लेंगे  , जिम  जायेंगे  लेकिन  घर - गृहस्थी  का  काम  नहीं  करेंगे   ।  यही  स्वतंत्रता  है  ।
     समाज  में  शान्ति  तभी  होगी  जब  हम  स्वतंत्र  होंगे ,  स्वछन्द  नहीं  ।  
  हमें  रामायण  से   सीखना  है  ---  लक्ष्मण  रेखा ---  जीवन  के   ,  समाज  के  हर  क्षेत्र  में  है  ,  उसे  पार  करने  से  ही  अशान्ति  है   ।

No comments:

Post a comment