Saturday, 23 April 2016

संसार में अशान्ति का कारण है --' धार्मिक कर्मकाण्ड ने व्यवसाय का रूप ले लिया है '

    धार्मिक  कर्मकाण्ड  की  महत्ता  है   क्योंकि  हर  व्यक्ति   योगी  नहीं  हो  सकता ,  ध्यान ,  मन्त्र - जप  नहीं  कर  सकता  ।  एक  किसान ,  मजदूर,  दिन  भर  परिश्रम  करके  किसी  तरह  परिवार  का  पालन - पोषण  करने  वाला  व्यक्ति   भगवान  को  फूल -पत्ती    चढ़ाकर,  आरती , भजन  गा  कर ,  कोई  कथा - पूजा  करा  के  ही  भगवान  को  प्रसन्न  करता  है  । उसे  विश्वास  भी  होता  है  कि  उसकी  पूजा - भक्ति  का  ही  परिणाम  है  कि  परिवार  का  गुजर - बसर  हो  रहा  है  ।  वह  चैन  की  नींद  सोता  है  ।
    समस्या  तब  पैदा  होती  है   जब  पढ़े - लिखे  धर्म  के  ठेकेदार    इन  लोगों  की  सरलता  और  अज्ञानता  का  फायदा  उठाकर   कर्मकांड  के  नाम  पर  खूब  धन  कमा    कर   विलासिता  का   जीवन    जीते  हैं  ।
               आज  के  समय  में   अशान्ति  इसलिए  है  कि  लोग    केवल  कर्मकांड  कर  के  ,  सुबह  शाम   पूजा  ,  आरती ,  प्रार्थना  कर  के  स्वयं  को  धार्मिक  समझते  हैं  और  दिन  भर  भ्रष्टाचार ,  बेईमानी , लूट,  लोगों  को  उत्पीड़ित  करना ,  षड्यंत्र  रचना   ' कर्तव्य  की  चोरी  आदि  पाप  कर्म  करते  रहते  हैं   ।
               संसार  की  सारी  समस्याएं  गलत  धार्मिक  आचरण  करने  से  ही  उत्पन्न  होती  हैं  ।  धार्मिक  कर्मकांड  करना ,  या  उन्हें  धर्म  के  ठेकेदारों  से  कराना  ,   यह  व्यक्ति  का  निजी  प्रश्न  है   ।  अपने  मन  की  खुशी,  अपनी  परम्पराओं  के  अनुसार    प्रत्येक  व्यक्ति  कर्मकांड   आदि  कर  सकता  है
     लेकिन  यदि   अपने  जीवन  में ---- सुख  शान्ति  चाहिए ,  चैन  की  नींद  आये ,  बीमारियाँ   प्रारब्ध  वश  हों  लेकिन  उनमे  कष्ट  न  हो  ,  परिवार  में  अकाल - मृत्यु  न  हो ,  कष्ट  का  समय  शान्ति  से  कट  जाये ,  सद्बुद्धि  हो   ----- तो  कर्मकांडों  के  साथ  ---- 1 . नि:स्वार्थ  भाव  से  सत्कर्म  करना  अनिवार्य  है  और
2. अपनी  दुष्प्रवृतियों  को  दूर  करने  का  निरंतर  प्रयास  करना  अनिवार्य  है  ।  ---- यही  रास्ता  है  जिससे  ईश्वर  की  कृपा  प्राप्त  हो  सकती  है   । 

No comments:

Post a comment