Friday, 29 April 2016

---संसार में अशान्ति का कारण है ---- व्यक्ति का विश्वसनीय न होना

   आज  के  समय  में   नैतिकता  का  अभाव  होने  के  कारण  व्यक्ति  विश्वसनीय   नहीं  रहा  |  समस्याएं  सबके  जीवन  में  आती  हैं  ,  पहले  लोग  एक   दूसरे   की  मदद  करते  थे  ,  तो  कष्ट-  परेशानियों   की  चुभन  इतनी  नहीं  होती  थी  ।  लेकिन  अब  परिवारों  में  दूरियाँ  बढ़  गई  हैं   ।     रिश्ते ,  दोस्ती  सब  में  स्वार्थ  प्रमुख  हो  गया  है   ।   स्वार्थ  और  ईर्ष्या  की  वजह  से  ही  ऐसे  अपराधों  में  वृद्धि  हुई  है  जो  कानून  की  निगाह  में  नहीं  आते  -- जैसे  परिवारों  में  हिंसा , सम्पति  आदि  के  झगड़े   ।  इसी  तरह  विभिन्न  कार्य  स्थल  पर   मानसिक  उत्पीड़न  ।
   ऐसे  व्यक्ति  जो  लोगों  को  मानसिक  रूप  से  उत्पीड़ित  करते  हैं  ,  कानून  की  पकड़  में  न  आने  के  कारण  उनके  हौसले  बढ़ते  जाते  हैं   ।  वास्तविक  अपराधी   सामने  नही  आता ,  धन  व  सुविधाओ  का  लालच  देकर   वे  दूसरों  को  मोहरा  बना  लेते  हैं  ।   इसी  वजह  से  समाज  में  अशान्ति  होती  है   ।
  जब  लोगों  को  ईश्वर  से  भय  होगा ,  ईश्वरीय  विधान  में  विश्वास  होगा  तभी   समाज  में  शान्ति  होगी  ।    

No comments:

Post a comment