Thursday, 21 April 2016

संसार में अशान्ति का कारण दुर्बुद्धि है

    आज  की  अधिकांश  समस्याओं  का  कारण  विवेक  की  कमी  है   ।   विवेक  न  होने  से  , जागरूक  न  होने  से  ही  लोग  समस्याओ  से  घिर  जाते  हैं  ।    शराब , सिगरेट , तम्बाकू   की  आदत  का  कारण  ही  विवेकहीनता  है   ।  किसी  के  समझाने  से  जोर - जबरदस्ती  से  ये  आदतें  नहीं  छूटती,  यदि  व्यक्ति  के  भीतर  का  विवेक  जाग्रत  हो  जाये   तो  पल  भर  में  ही  ये  आदत   छूट   जाये  ।
  व्यक्ति  को  यह  समझ  आ  जाये  कि  अपनी  सेहत ,  अपना  पैसा ,  अपने  जीवन  के  अमूल्य  क्षण  गँवा  कर  वह  दूसरों  को  अमीर  बना  रहा  है ।  और  ये  अमीर  स्वयं  ऐश  से  रह  रहे  हैं  ,   समाज  के  कल्याण  के  लिए  कुछ  नहीं  कर  रहे  । -- यह  सत्य  समझ  में  आना  जरुरी  है  । 
  मनुष्यों  में  स्वाभाविक  अनुकरण  की  प्रवृति  होती  है  ,  जब  कुछ  लोग  अपनी  दुष्प्रवृतियों  को  छोड़ेंगे  तो  और  लोग  भी  उनका  अनुकरण  करेंगे  ।
  इसी  तरह  आज  की  युवा  पीढ़ी  बेरोजगारी   से  परेशान   है ,  बेरोजगार  अवश्य  हैं  लेकिन  मैच  देखने , एक  ही  फिल्म  अनेक  बार  देखने ,  मांसाहार  करने  में   बहुत  धन  खर्च  कर  देते  हैं   ।  इससे  अमीर  तो  और  अमीर  हो  जाते  हैं  ,  लेकिन  युवाओं  की  बेरोजगारी  दूर  नहीं  होती  ।  यदि  विवेक  जाग  जाये  तो  इसी  समय  और  धन  का  उपयोग   कोई  हुनर ,  तकनीकी  ज्ञान  प्राप्त  करने  में  करें  तो  अपनी  मेहनत  और  योग्यता  से  स्वाभिमान  का  जीवन  जिया  जा  सकता  है  ।
युवा  पीढ़ी  में  बहुत  उर्जा  है  ,  इस  उर्जा  को  सही  दिशा  में  नियोजित  करें  तो  जीवन  सफल  हो  सकता
 है ।  

No comments:

Post a comment