Monday, 18 April 2016

संसार में अशान्ति इसलिए है क्योंकि मनुष्य अपनी ऊर्जा दूसरों का अहित करने में गँवाता है

  आज  कोई  भी  व्यक्ति   दूसरे  को  सुखी  नहीं  देख  सकता   ।  सामंती  व्यवस्था  समाप्त  तो  हो  गई  लेकिन  अभी  तक  लोगों  के  ह्रदय  से  जमींदारी  का , सामंती  व्यवस्था  का  भूत  उतरा  नहीं  ।  चाहे  परिवार  हो , समाज  हो  ,  विभिन्न  संस्थाएं  हों ,  कार्यालय  हों  --- कुछ  लोग  स्वयं  को  शक्तिशाली  घोषित  कर    अपनी  हुकूमत  चलाना  चाहते  हैं   ।    अपने  व्यक्तित्व  को  ,  अपने  स्वाभिमान  को  मिटाकर  इन    लोगों  के  अनुसार  न  चलें   तो  ऐसे  लोग  निरंतर  षड्यंत्र  रचकर  परेशान    करते  रहेंगे  ।   जब  भी   समाज  में  ऐसे  सामंतों  की  अधिकता  हुई  है    तो   अशान्ति   बढ़ी  है   ।
  थोड़ी  सी  भी   शक्ति   आने  पर  व्यक्ति  स्वयं  को  दूसरों  का  भाग्य - विधाता  समझने  लगता  है ,  उसका  अहंकार   हुंकारने  लगता  है   ।  ऐसे  लोगों  को  एक  सत्य  समझना  चाहिए  कि  कोई  किसी  के  माथे  पर  खिंची  रेखाओं  को  नहीं  मिटा  सकता  ,  किसी  के  भाग्य  को  नहीं  बदल  सकता   ।   यह  तो   ईश्वर   के  हाथ  में  है  ।  ईश्वरीय  विधान  में  दखल  करने  से  अच्छा  है    ,  अपने  कर्म  अच्छे  करो ,  अपनी  शक्ति  का  सदुपयोग  करो   ।    जब  ईश्वरीय  शक्ति  में   विश्वास  करने    वाले     अधिक  लोग  होंगे  तभी  संसार  में  शान्ति  होगी   ।
  दूसरों  को  नीचे  गिराने  से  बेहतर  है  ,      अपने  श्रेष्ठ  कर्मों  से  स्वयं  को  ऊँचा  उठाओ   ।  

No comments:

Post a comment