Sunday, 24 April 2016

अशान्ति इसलिए है क्योंकि लोग स्वयं को बदलना नहीं चाहते

   मनुष्य  की  यह  कमजोरी  है  कि  वह  जानता  है  कि  अमुक  आदत  बुरी  है ,   शरीर   व  मन   दोनों  के  लिए  नुकसानदायक  है  ,  फिर  भी  वह  उसे  छोड़ता  नहीं  है   l   विशेष  रूप  से   जब  उम्र  ढलने  लगती  है  ,  60 - 65  वर्ष  की  उम्र  हो  जाने  पर  लोगों  को  ऐसा  लगने  लगता  है  कि  अब  जीवन  हाथ  से  फिसलता   जा  रहा  है   तो  वे   सुखों  को  ,  भोग - विलास  को  और  तेजी  से  पकड़ना   चाहते  हैं  ,  उन्हें  लगता  है  कितने  सुख  और  भोग  लें  ।  शरीर  साथ  देना  बंद  कर  देता  है    लेकिन  इच्छाएं  समाप्त  नहीं  होती  ।
       जो  युवा  पीढ़ी  है  ,  वह  परिवार , समाज   का  अनुकरण  करती  है  ,  बुराई  का  रास्ता  सरल  है ,  इसलिए  पतन  तेजी  से  होता  है  ।
    कोई  भी  दुष्प्रवृति  को  छोड़ना  कठिन  नहीं  है  ,    जरुरी  ये  है  कि  उन    दुष्प्रवृतियों   पर  चारों  ओर  से  आक्रमण  किया  जाये  ।    व्यक्ति  स्वयं  संकल्प  ले  ,   और  मन  को  अस्थिर  करने  वाले  तत्व   जैसे  शराब , तम्बाकू ,  अश्लील  फ़िल्में   --- उसे  सरलता  से  न  मिल  पायें  ।    इसके  साथ  जरुरी  है  कि  समाज  में  ऐसी  जागरूकता  हो  कि  कोई  फालतू   न  बैठे ,  सकारात्मक  कार्यों  में  व्यस्त  रहें  ।   बच्चों  से  लेकर  वृद्ध  तक  ,  जब  सब  अपनी  उम्र  के  अनुरूप  सकारात्मक  कार्यों  में  व्यस्त  रहेंगे  तो  दुष्प्रवृतियों  को  मन  में   प्रवेश  करने  का  मौका  ही  नहीं  मिलेगा  । 

1 comment: