Wednesday, 27 April 2016

सुख - शान्ति से वही है----- जिसे जीवन जीना आता है

    सुख-  शान्ति    से  वही  जी  सकता  है     जो      जीवन  जीना  जानता  है   |
     आज  के  युग  में    जो  कर्मयोगी     है  ,  वही  सफल  है   |  केवल    भक्ति   करना----   काम   से  जी चुराना  है  |      और  व्यक्ति  केवल  कर्म  करे    तो   अहंकारी  हो  जाता  है  |
   इसलिए  भक्ति  को  अपने  कर्म  में  मिला  लें  ---- कोई  भी  कार्य  करें  ,  उसे  ईश्वर  को  जो  अपने  पास  है  उसमे  खुश  रहकर  समर्पित  कर  करें  दिन  भर  के    विभिन्न  कार्यों  के  साथ   मन  ही  मन  में  ईश्वर  को  याद  कर  लें   |    जो  कुछ  ईश्वर  ने  दिया  है  उसमे   खुश   रहकर    आगे  बढ़ने  का   करें  ईमानदारी  से  प्रयास   करें  | 

No comments:

Post a Comment