Wednesday, 13 April 2016

सुख - शान्ति से जीने के लिए धन के साथ दुआओं का भी संग्रह करें

   धन  जीवन  के  लिए  बहुत  जरुरी  है   । संसार  में  जितने  भी  सुख - भोग  हैं  वो  हम  धन  से  ही  प्राप्त  कर  सकते  हैं  ।   ईश्वर  ने  यह  संसार  बनाया  भी  इसी  लिए  है  कि  हम  विभिन्न  सुख - सुविधाओं  का  उपभोग  कर  प्रसन्न  रहें  ,  आनंद  से  रहें  ,  संसार  छोड़कर  भागे  नहीं  ।
  लेकिन  विडम्बना  ये  है  कि  सारी  सुख - वैभव  भोग  कर  भी  लोगों  को  शान्ति  नहीं  है ,  जीवन  में  आनन्द  नहीं  है  ।  
  जीवन  में  आनंद  पाने  का ,  सुकून  से  जीने  का  एक  ही  रास्ता  है  ---- हम  धन  कमायें ,  ठाठ - बाट  से  रहें  , इसके  साथ  अपनी  आय  का  छोटा  सा  भाग  किसी  और  को  ,  जरूरतमंद  को  सुख  देने  में  खर्च  करें   । अपना  भोजन  करने  के  बाद , थोड़ा  दाना - पानी  पशु - पक्षियों  को  दें   ।  कोई  भी  नेक  कार्य  नियमित  करें  ।  और  अपनी  आय  ,  जीवन - स्तर  में   वृद्धि  के  साथ  परोपकार  की   मात्रा   भी  बढ़ाएं  ।
    आनन्द  पाने  के  लिए  प्रत्येक  व्यक्ति  को  अपने  जीवन  में  ' निष्काम  कर्म '  का  प्रयोग   करके  देखना  चाहिए  और   थोड़ा   धैर्य  रखना  चाहिए  फिर  आप  देखेंगे  कि  जीवन  में  कैसे  चमत्कार   घटित  होते    हैं  ।            हमें  यह   याद    रखना  चाहिए  कि  ईश्वर  के  यहाँ  आनंद  बांटने  की  दुकान  नहीं  खुली  है  ।  हमारी  पवित्र  भावना   और  सत्कर्म  से  ही   जीवन  में  आनंद  प्राप्त  होता  है    । 

No comments:

Post a comment