Saturday, 9 April 2016

सुख - शान्ति और स्वास्थ्य के लिए मन की पवित्रता जरुरी है

आज  लोगों  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है  इसके  पीछे  सबसे  बड़ा  कारण  --- अश्लीलता  है  l अश्लील  साहित्य  से ,  फिल्मों  से  अच्छे - भले  लोगों  की  मानसिकता  भी  प्रदूषित  हो  जाती  है ,  बुद्धि  काम  करना  बंद  कर  देती  है  ,  इसी  लिए  समाज  में  इतने  अपराध ,  शोषण  ,  बीमारियाँ ,  नशे  की  लत ,  आत्महत्याएं  बढ़  गई   है  ।
  किसी  भी  धर्म  को ,  संस्कृति  को  जीवित  रहना  है  तो  अश्लीलता  पर  नियंत्रण  जरुरी  है  ।  संसार  में  अच्छाई - बुराई  का  संघर्ष  युगों  से  चला  आ  रहा  है  ।  युद्धों  से  जो  विनाश  होता  है ,  उसका  पुनर्निर्माण  तो  फिर  भी  संभव  है  लेकिन  वर्तमान  में  संस्कृति  को  नष्ट  करने  के  लिए  अश्लीलता  को  हथियार  की  तरह  इस्तेमाल  किया  जा  रहा  है   ।  चरित्रहीनता  के  कारण  ही  बड़े - बड़े  साम्राज्यों  का  पतन  हुआ  है  ।
    जागरूकता  जरुरी  है   । 

No comments:

Post a comment