Sunday, 17 April 2016

विपरीत परिस्थितियां किसे ज्यादा प्रभावित करती हैं ?

    सबके  जीवन  में  उतार - चढ़ाव  आते  हैं  , सुख - दुःख  आते  हैं  ,  इनसे  सबसे  ज्यादा  प्रभावित  वे  लोग  होते  हैं    जो  आलसी  हैं , कर्महीन  हैं  ।  जो  स्वयं  काम  न  करके  दूसरों  की  कमाई  और  सेवा  पर  जीते  हैं  ।   कर्तव्य  पालन   नहीं  करते  और  निकम्मा  जीवन  जीना  अपना  अधिकार  समझते  हैं  ,  ऐसे  लोगों  के  जीवन  में  छोटी  सी  भी  कोई  समस्या  आ  जाये   तो  दुःखी  और   परेशान   हो  जाते   हैं  और  कभी  निराशा  और  तनाव  की  अधिकता  में  आत्महत्या  तक  कर  लेते  हैं   ।
   इसके  विपरीत  जो    मेहनती   हैं  और  निर्धन  हैं , अभावों  में  रहते  हैं  ,  जिनकी  आय  बहुत  कम  है ,  जिनका  शिक्षा  और  सोचने - विचारने  का  स्तर  बहुत  साधारण  है ,  वे  जीवन  की  वास्तविकता  को  इतना  समझ  चुके  होते  हैं   कि  विपरीत  घटनाएँ  उन्हें  इतना  प्रभावित  नहीं  करतीं   ।  सुख  और  दुःख  को  जीवन  का  अनिवार्य  अंग  समझ  कर  स्वीकार  करते  हैं   और  मेहनत - मजदूरी  से  जो  मिला  उसमे  खुश  रहते  हैं    ।
   सुख  शान्ति  से  जीने  के  लिए  जरुरी  है   शरीर   व   आत्मा  दोनों  को  पोषण  मिले  ---- शरीर  को  स्वस्थ  रखने  के  लिए  जरुरी  है  कि  शारीरिक  श्रम  करें ,  अपना  पसीना  बहायें  ।  और  आत्मा  के  पोषण  के  लिए  जरुरी  है  --- कर्तव्य  पालन   पूर्ण   ईमानदारी  से  करें ,  उसमे  नैतिकता  का  समावेश  हो  ।   आज  इसी  का  अभाव  है  इसीलिए  संसार  में  इतनी  समस्याएं  हैं  । 
   

No comments:

Post a comment