Friday, 15 April 2016

जीवन में सकारात्मक कार्य और श्रेष्ठ लक्ष्य होना बहुत जरुरी है

  आज  संसार  में  इतनी  अशान्ति  है   उसका  कारण  यही  है  कि  अब  लोगों  के  जीवन  का  एकमात्र  उद्देश्य  धन  कमाना  और  भोग - विलास  का  जीवन  जीना  है  ।
जीवन  में  श्रेष्ठ  लक्ष्य ,  सकारात्मक  सोच  न  होने  के  कारण  ,  विशेष  रूप  से  युवा  पीढ़ी  अपना  समय  और  अपनी  उर्जा  ऐसे  कार्यों  में  अपव्यय  करती  है    जिससे  न  तो  कोई  स्वास्थ्य  लाभ  होता  है ,  न  ही  जीवन  को  कोई  दिशा  मिलती  है   ।
  जैसे  जब  मैच  होते  हैं  तो  लोग  मैदान  में  या  टीवी  के  सामने  सारा  समय  मैच  देखते  हैं  ।  ऐसा  प्रतीत  होता  है  कि  उनके  जीवन  में  और  कोई  काम  ही  नहीं  है  । यदि  कोई  श्रेष्ठ  लक्ष्य  सामने  हो  तो  थोड़ी  देर  मनोरंजन  कर   व्यक्ति  अपने  कार्य  में  व्यस्त  हो  जाये  ।
  इसी  तरह  फिल्म  के  हीरो , हिरोइन  को  अपना  आदर्श  मानकर    कई - कई   बार  फ़िल्में   और  सीरियल देखते  हैं   l  इसके  बाद  जो  समय  है   उसमे  सिगरेट  और   नशा  करते  हैं  ।
ये  सारे  शौक  ऐसे  हैं  जिसमे  व्यक्ति   अपना   समय ,  अपना  धन  और  अपनी  उर्जा  व्यय  कर  के  इनसे  जुड़ी    हुई  कम्पनियों  और  लोगों  को   करोड़पति   और  अरबपति  बनाता  है   और  फिर  कहता    हैं  समाज  में   आर्थिक  विषमता  है  ।   इसी  को  दुर्बुद्धि  कहते  हैं
  आर्थिक  समानता  के  इच्छुक  लोगों  को  अपने  शौक ,  अपनी  रूचि  को  मर्यादित  करना  होगा  । 

No comments:

Post a Comment