Sunday, 29 March 2015

मन की शांति के लिए हमें जागरूक रहने की जरुरत है

यदि  आप  सुख-शांति  का  जीवन  जीना  चाहते  हैं  तो  आपको  अपने  आस-पास  के  लोगों  के  प्रति  भी  चौकन्ना   रहने  की  जरुरत  है  |  आज  के  समय  में  लोग  अपनी  वास्तविकता  को  छुपाने  के  लिए  शराफत  का  मुखौटा  लगा  लेते  हैं  और  अधिकांश  लोगों  की  यह  कमजोरी  होती  है  कि  वह  दूसरों  की  धन-दौलत,  वैभव  देखकर  बहुत  जल्दी   प्रभावित  हों  जाते  हैं  ।  और   उनके   साथ   मित्रता   रखते   हैं   ।
                  जैसे --- एक   व्यक्ति   शराब   नहीं   पीता , मांसाहार   नहीं   करता , सिगरेट   छोड़   दी --- केवल   यही   उसकी    अच्छाई   का   मापदंड   नहीं   है ,   मांसाहार   नहीं   करता   लेकिन  ऐसे   व्यक्तियों   के   साथ   मिलकर   काम  करता    है  जो   जानवरों   को   सताते   हैं  उनके   खुर , सींग  खाल   आदि   बेचकर   पैसा   कमाते   हैं   तो   ऐसे   व्यक्ति   की  कसाई -वृति   आपके   मन   को   भी   अशांत   कर    देगी    । ऐसे   व्यक्ति   कब   घातक  हो   जाये , कब   धोखा   दें  , उन पर  भरोसा  नहीं किया  जा  सकता
    इसलिए  आज  के  समय  में  जब  चारों  ओर  हिंसा-अपराध  की  घटनाएँ  हैं,  धन  कमाने  के  अनुचित  तरीकों  से  समाज  में  नकारात्मकता  बढ़  गई  है,  प्रकृति  रुष्ट  हो  गई  तो   ऐसी  विकट  परिस्थितियों  में  हम  निष्काम  कर्म,  सेवा-परोपकार  का  कोई  कार्य  अवश्य  करें  ताकि  हमारे  घर  का  वातावरण  सकारात्मक  हो  जो  बाहर  से  आने  वाली  नकारात्मकता  को  पराजित  कर  दे  । 

No comments:

Post a comment