Tuesday, 10 March 2015

मन की शांति के लिए सहनशीलता अनिवार्य है

आज  दुनिया  मे  सब  विश्वशांति  की  बात  करते  हैं  ।  हम  सबसे  मिलकर  ही  तो  समाज, राष्ट्र  और  विश्व  बना  है,  जब  तक  हम  सबके  मन  मे  शान्ति  नही  होगी,    विश्व  में  कैसे  शान्ति  होगी  ।  छोटी-छोटी  बातों  पर  हमें    क्रोध  आ  जाता  है,  छोटी  सी   बात  बड़ी  लड़ाई  का  रूप  ले  लेती   है   ।
       यह   बात    स्पष्ट  है  कि  लड़ाई  में  दो  पक्ष  होते    हैं  चाहे  वह   पारिवारिक  झगड़ा  हों  या  घर  से  बाहर  किसी  से  विवाद  हो  ।    हम  दूसरे  पक्ष  को  नहीं   समझा  सकते  । उचित  यही  होगा  कि  हम  शांत रहें , एक  पक्ष  अकेला  कब   तक  बोलेगा , कब  तक लड़ेगा  |
हम  सब  ईश्वर से  प्रार्थना  करें  कि  वे  हमे  सद्बुद्धि   दें , हम  इस  सत्य  को  समझें  कि  लड़ाई   में  हमारी  ऊर्जा  और  समय  की  बरबादी  है ,  इससे  लाभ   किसी   को   भी    नहीं   है  ।  
यदि  किसी  ने   हमें  अपशब्द   कहे , भला -बुरा  कहा   तो  इससे   हमारा   क्या  नुकसान  हुआ  ?   उस  व्यक्ति  ने  अनुचित  बोलकर  अपना  अंतर , अपने  आपको  हमारे  सामने  प्रकट  कर  दिया  | उचित  यही  है  कि  हम  शांत  रहें ,    कुछ  भी  न  कहें ,उसके  क्रोध  को   न भड़काएं   ।
यहां  शांत  रहने  का  अर्थ  डरपोक  होना  या  कायरता  नहीं  है ,  हमारे भीतर  समझ  विकसित  हो  चुकी  है  कि  हम   व्यर्थ के   झगड़ों  में  अपना  समय  व  ऊर्जा  बर्बाद  न  कर  उसे  सकारात्मक  कार्य  मे  लगाना  चाहते  हैं  । हम  प्रयास  करें कि  हमारे  मन  में  भी  क्रोध  न  रहे , स्वयं  को  सत्कर्म  व  सकरात्मक  कार्यों  में  व्यस्त  रखें  ।  

No comments:

Post a Comment