Wednesday, 4 March 2015

सुख-शांति से जीने के लिये सर्वप्रथम स्वयं से प्यार करें

आज   मनुष्य   को  स्वयं  से   प्यार   नहीं   है ,  उसे  प्यार  है  धन  से ,  सुख -साधनों   से   ।  जीवन   मे  जिसे  प्राथमिकता  दो  वही   मिल जाती  है  ।  हमें  इस  सत्य  को  समझना  होगा  कि  जब  शरीर  स्वस्थ  होगा , मन  शांत  होगा  तभी  उस  धन  का , साधन -सुविधाओं  का   आनंद  है ।  इसलिये  हमें  महत्व  स्वयं  के  जीवन  को  देना   होगा  ।  जब  प्रत्येक  व्यक्ति  स्वयं  से प्यार  करेगा  तो  वह  कोई भी  ऐसा  काम  नहीं  करेगा  जिससे  उसके  स्वास्थ्य  को  नुकसान  हों  ।  परस्पर  ईर्ष्या -द्धेष , लड़ाई -झगड़ा  से किसी  का  भी  भला  नहीं  हुआ  । हम  अपना  अहंकार छोड़कर  अपने  मन  को  निर्मल  बनाने  का  प्रयास  करे  ।  जब  हम  अपने  क्रोध  पर , अपने  लालच , अपनी  कामनाओं  पर   नियंत्रण  कर  लेंगे  तो  संसार  के  कोलाहल  के   बीच  भी  शांत  और  स्वस्थ  रहेंगे  । 

No comments:

Post a comment