Tuesday, 24 March 2015

श्रेष्ठता की ओर कैसे बढ़ें-------

हमारे  मन  में  अच्छा  बनने  की  चाहत  होनी  चाहिए,  कहते  हैं  सच्चाई   की   राह  बहुत  कठिन  है   लेकिन   यदि   हम   संकल्प   ले   लें   तो   यह   राह   आसान   हो   जाती   है   ।   मन   बड़ा   चंचल   होता   है , तनिक  से  लालच   में  ही  डाँवाडोल  हो  जाता है   ।   इसलिए   अनेकों   सद्गुणों   में   से   हम   केवल   एक   सद्गुण   अपनाकर   श्रेष्ठता  की  राह  पर  पहला  कदम  बढ़ायें ------
अपने  स्वाभाव , सुविधा , सरलता  के  अनुसार  एक  सद्गुण  को  अपनी  दिनचर्या  में  सम्मिलित   करें   जैसे --- अब  हमेशा  सत्य  बोलेंगे ,     परनिंदा  नही  करेंगे ,यदि  कोई  कर  रहा  है  तो  अनसुनी  करेंगे , उसमे  रूचि  नहीं  लेंगे ,      ईमानदारी ,    जहां  और  जैसी  भी स्थिति  में  हैं  अपना  कर्तव्य  पालन  मन  से  करेंगे ,   आदि   अनेक  सद्गुण  हैं   फिर  सभी  धर्मों  की  नैतिक  शिक्षाएं  एक  सी  हैं ,  हम  कोई   सी   भी   एक  शिक्षा   को   अपनाने   का   संकल्प  लें   और  कितनी  भी  बाधाएं   आयें    विचलित   न  हों  ।
एक  गुण  में  ही  इतनी  शक्ति  होती  है  कि   धीरे -धीरे   अन्य   सद्गुण  भी   खिंचे  चले   आते   हैं   ।
     नियमित   सत्कर्म  करने  से   मन  को  शक्ति  मिलती  है  कि  संकल्पों  पर  दृढ़  रहें , इसके  साथ   ईश्वर  का  सुमिरन  और  प्रार्थना   करने  से    श्रेष्ठता   की  राह  पर   भी   ईश्वर  की  कृपा  से  चल  पाते  हैं   ।
    

No comments:

Post a comment