Sunday, 22 March 2015

सुख- शांति का साम्राज्य तभी होगा जब सद्गुणी व्यक्ति अधिक होंगे

मनुष्य  की  अशांति  का  सबसे  बड़ा  कारण  यही  है  कि  वह  अपने कष्ट,  अपनी  अशांति  के  लिए  दूसरों  को,  परिस्थिति   को  दोष  देता  है ,  स्वयं  अपना  सुधार  नहीं  करता  है  । दुनिया  के  विभिन्न  देशों  ने   गुलामी,  दास-प्रथा,  राजतन्त्र,  तानाशाही  के  विरुद्ध  भीषण  संघर्ष  किया,  शांति  के  लिए,  अपने  अधिकारों  के  लिए  बड़े-बड़े   युद्ध  किये ,  सफलता   भी   मिली  ,  आज    गुलामी,  दास-प्रथा, राजतन्त्र, तानाशाही  समाप्त हो  गई  लेकिन    शांति  अब  भी  नहीं  है--- अन्याय,  अत्याचार,  शोषण,  अनाचार,  अपराध, हत्या, ,बेईमानी,  लूट,  कमजोर  की  सम्पति-अधिकारों  का  हनन  आज   भी     है  और  जो   लोग  ऐसा  करते  हैं  उनकी  आने  वाली    पीढ़ी  बचपन  से  इन्ही  दुर्गुणों  के  बीच   परवरिश  पाकर   बड़ी  होती  है,  अत्याचार शोषण,  अन्याय  इन  लोगों  के  स्वभाव  में,  आदत  मे  आ  जाता  है  |  जनसँख्या  बड़ी  तेजी  से   बढ़ती  है  इसलिए  ऐसे  अत्याचारियों  की  इस  धरती  पर  भरमार  हों  गई  है,  इनके  मन  अशांत  हैं  इसलिए  ऐसे  लोग  अपने  गलत  और  अनैतिक  कार्यों  से   दूसरों  को  भी  चैन  से  जीने  नहीं  देते  |
  आज  जरुरत   है--- व्यक्ति  में  स्वयं सुधार  की  ।
 लेकिन   जब  तक  ह्रदय  में,  अपने  अंतर्मन  में  अपनी  गलतियों  को  समझने  की  समझ  और  सुधरने  की  इच्छा  न  हो  तब  तक  दुष्प्रवृत्तियां  कैसे  दूर  हों  ?
हमारे  आचार्य,  ऋषि,  महर्षियों  ने  अपने  अनुभवों  के  आधार  पर  बताया  कि  निष्काम  कर्म  के  साथ  गायत्री  मन्त्र  का  जप  करने  से  वातावरण  में  ऐसी  तरंगे  पैदा  होती  हैं  जो  व्यक्ति  को  सद्बुद्धि  देतीं  हैं,  सन्मार्ग  के  लिए  प्रेरित  करती  हैं  । इसलिए  प्रत्येक  व्यक्ति   चाहे  वह  किसी  भी  धर्म-सम्प्रदाय  का  हो,  हम  सबके  प्राणदाता-  सूर्य  भगवान  के  मन्त्र--- गायत्री  मन्त्र  का  जप  करे  तो  इससे  सद्बुद्धि  आती  है,  व्यक्ति  स्वयं  अपनी  दुष्प्रवृतियों  से  युद्ध  कर  सन्मार्ग  पर  चल पड़ेगा  । 

No comments:

Post a comment