Sunday, 15 March 2015

सुख-शांति से जीना चाहते हैं ------ उधार न लें

जीवन  में  सुख-शान्ति  तभी  होंगी  जब  इच्छाओं  पर  नियंत्रण  होगा,  और  दूसरों  का  वैभव  देखकर  उनका  अन्धानुकरण  नहीं   करेंगे  ।
उधार  लेते   ही  व्यक्ति   अपने   हाथों   से  अपने  लिए   अशांति   मोल   लेता   है  ।  हर   महीने   ब्याज   चुकाने   की   चिंता ,  फिर   किसी   कारण  यदि   एक   महीने   ब्याज   नहीं   चुकाया   तो   अगले   महीने   दोगुना   ब्याज   चुकाने   की   चिंता   !
शांति   से   जीने   के   लिए   हम   उधार   के   बजाय     बचत   करने   को   प्राथमिकता   दें   ।   माना   आपको  आज   कार   खरीदनी   है  ।  अब  यह   हिसाब   लगायें   कि   यदि   आप   लोन   लेते   हैं   तो   प्रतिमाह   कितना    और   कब   तक  ब्याज  चुकायेंगे   ।   अब   अपने   मन   पर   थोड़ा   नियंत्रण   रखें ,  धैर्य   रखें ----- कार   आज   न   लेकर   डेढ़   या  दो  वर्ष   बाद   लें --- जो   ब्याज   आप   चुकाते   , इस   राशि   को   प्रति   माह   अपने   खाते   में   जमा   करें ,  अपने   पान ,  शराब , सिगरेट   आदि   विभिन्न   शौक   के   खर्चों   में   कटौती   कर   वह   राशि   भी   जमा   करें   ।  ऐसा   करने   से   लगभग   दो   वर्ष   में  आपके   पास   पर्याप्त   धन  राशि   जमा   हो   जायेगी  ,  इसमें  कुछ   और   जमा   मिलकर   आप   नकद   राशि   देकर   कार   खरीद   सकेंगे   ।  इससे   आपको   अनोखी   ख़ुशी   मिलेगी ,  आत्म विश्वास   भी   बढ़ेगा , पूरा   परिवार   मिलकर   बचत  करेगा   इससे   परस्पर   तालमेल   भी  बढ़ेगा   ।   हम   अपने   बजट   के   अंतर्गत   ही  सामान   खरीदें
दिखावे   और   दूसरों  से  तुलना  करने  में   अनावश्यक  धन  खर्च  न  करे  । 

No comments:

Post a comment