Sunday, 8 March 2015

मन की शांति के लिये --- अपनी स्थिति में संतुष्ट रहते हुए उन्नति के लिये प्रयास करें

जब  व्यक्ति  अपनी  स्थिति  से  संतुष्ट  नहीं  होता तभी  वह  अशांत  रहता  है,  संतुष्ट  रहने  का  अर्थ  ये  नहीं  कि   आलस  करें ,    संतोष  का  अर्थ  है--- जो  कुछ  अपने  पास  है  उसमे  खुश  रहते  हुए  अपनी  तरक्की  के   लिए  निरंतर  सही  तरीके  से   प्रयास  करें 
यदि  दूसरों  के  सुख-वैभव,  पद-प्रतिष्ठा  से  अपनी  तुलना  करेंगे  तो  मन  में  निराशा  आयेगी,  मन  अशांत  होगा   और  जों  कुछ  अपने  पास   है  उसका  भी  आनंद  नहीं  उठा  पायेंगे  ।  ईश्वर  ने  जो  हमें  दिया  उसकी  खुशी  मनाते  हुए  जों  कुछ  पाना  चाहते  हैं  उसके  लिए  ईमानदारी  से  प्रयास करें  । 
सत्कर्म   को  अपनी  दिनचर्या  में  सम्मिलित  करने  से    जीवन  में  आने  वाली  विभिन्न बाधाएं  दूर  होती  हैं
  हमारा  उद्देश्य  हो---- सफल  भी  हों,  स्वस्थ   भी   रहें  और  मन   भी  शांत  रहे
ऐसा  तभी  संभव  है  जब  हम  सुख-भोग  की  अंधी  दौड़  मे  नहीं  भागेंगे,   अपनी  तरक्की  के  लिए  किसी  का  हक  नहीं  छीनेगें,  किसी  को  धक्का  देकर  आगे  नहीं  बढ़ेंगे  |
सत्कर्म  और  सच्चाई    के  साथ  प्रयास  करने  से   ही  जीवन  में  सुख-शांति  मिलती  है  ।  

No comments:

Post a Comment