Monday, 9 March 2015

सुख-शांति से जीने का आसान सूत्र

आज  विश्व  के  अधिकांश देश  राजनीतिक  रुप  से  स्वतंत्र  हें  लेकिन  हम    अपने  मन  के  गुलाम  हैं,  सारी  सुख-सुविधाएँ  जोड़ने   के  बाद   भी  मन  असंतुष्ट  रह्ता  है,  इसीलिए  अशांत  रहता  है   |
यदि  हम  मन  की  गुलामी  से  मुक्त हो  जायें    तो  सारी  समस्याएं  हल  हो जाएँ  |
इस गुलामी से  मुक्ति  का सब से  आसान  रास्ता  यही  है  कि  हम  जों  भी  कार्य  करें  वह  पूर्ण  मनोयोग  से  करें,  मन  को  भटकने  का  मौका  ही  न  दें  ।  ऐसी   कोई  तकनीक,  कोई  मशीन  नही  है  जों  मन  को  नियंत्रण  मे  कर  सके  ।    हमारे  आचार्य,  ऋषियों  ने   बताया  कि   निष्काम  कर्म  करने  से  मन  निर्मल  हो  जाता  है  |   हम  अपने  जीवन  में  सन्तुलन  रखें---- सांसारिक  क्षेत्र  में-- अपने  कर्तव्य  का  पालन  पूर्ण  मनोयोग  से  करें  और  आध्यात्मिक  क्षेत्र  में--- अपने  ईश्वर  का  स्मरण  करने  के  साथ निःस्वार्थ  सेवा  के  कार्य  करने  से  ही  मन  कों  शांति,  सन्तोष  व  आनंद  प्राप्त  होगा  । 

No comments:

Post a comment