Thursday, 26 March 2015

सरल जीवन जियें

आज  भौतिक  प्रगति  के  इस  युग  में  प्रत्येक  मनुष्य    स्वयं  को  सभ्य  दिखाने  के  लिए   बनावटी   जीवन   जी  रहा  है   |  बात-बात  पर  अभिनय  करना , अपनी  सच्चाई  को  छुपाकर  एक मुखौटा  लगाकर   रहने  से  जीवन  की  सारी  शान्ति  समाप्त  हो  गई  है  । हम  क्या  हैं  ? कैसे  हैं ? यह  बात  हमारा  मन ,  हमारी   आत्मा    अच्छी   तरह  जानती  है  लेकिन  स्वयं  को  अच्छा  वा  सभ्य  दिखाने  की  लिए   समय -समय  पर  भिन्न  -भिन्न   मुखौटे   ओढ़ने   से ,  इस  दोहरेपन  से  जीवन  का   सारा   रस  सूख  गया  है  ।
     बनावटीपन  मे  शान्ति  नही  है ,    सरलता  में , सहजता  में  शान्ति  है  । 

No comments:

Post a Comment