Thursday, 12 March 2015

सुख-शांति से जीने के लिए जरुरी है--- विनम्र के साथ निर्भीक बने

सच्चाई  की  राह  बहुत  कठिन  है ।  कोई सच्चाई   की  राह  पर  चलकर  सरलता  से  जीवन  जीना  चाहता  है । किन्तु  समाज  के  ऐसे  लोग  जो  दबंग  हैं,  अत्याचारी  हैं,  सीधे-सरल  लोगों  को   कमजोर  समझकर  तरह-तरह  से  परेशान  कर  उनकी  मन  की  शांति  को  भंग  करते  हैं,   उन्हें  मानसिक  रूप  से  पीड़ित  करते   हैं  ।  इसलिए  हमारे  आचार्य,  ऋषियों  ने  कहा  है  कि  व्यक्ति  में  सरलता  के  साथ  निर्भीकता  होनी   चाहिए  |
       अत्याचार,  अन्याय  के  खिलाफ  आवाज  उठानी  चाहिए  ।  यह   समस्या  युगों  से  है  कि  दुष्ट  प्रवृति  के,  अत्याचारी  संख्या  में  बहुत   हैं  व   संगठित  हैं  ।  इनसे  मोर्चा  लेने  के  लिए,  उनकी   इस  अत्याचारी  मनोवृति  को  समाप्त  करने  के  लिए  अच्छाई   को,  श्रेष्ठ   प्रवृति  के  लोगों  को  संगठित  होना  पड़ेगा  ।
            निर्भीकता  आती  है--- ईश्वर  विश्वास  से  । ईश्वर  विश्वास  का  अर्थ  है--- हम   अपने  तरीके   से  पूजा,  प्रार्थना  करने  के  साथ  सत्कर्म  भी  करें  । जब  हम  किसी  का  बुरा  नही  करेंगे  तो  हमारा  भी  बुरा  नहीं  होगा   ।
 संसार  की  प्रत्येक  समस्या  को  सुलझाने   के  लिए  विवेक   की   सद्बुद्धि   की  आवश्यकता  होती  है  । हमें  कब,   कहाँ  विनम्रता  का  व्यवहार  करना  है,  और   कब   आवश्यकता  पड़ने  पर  अपनी  निर्भीकता  को  प्रकट  करना  है,  इसके  लिए  हमारी  बुद्धि  संतुलित  और  विवेकपूर्ण  होनी  चाहिए--- यह  विवेक  जाग्रत  होता  है--- सत्कर्म  के  साथ  गायत्री मंत्र  का  जप  करने  से  ।  यही  एक  तरीका  है  जिससे  हम  इस  संसार  में  सफलता  के  साथ  शांतिपूर्ण  जीवन  जी  सकते   हैं  । 

No comments:

Post a comment