Thursday, 10 December 2015

धार्मिक चेतना के जागने से ही शान्ति संभव है

आज  धर्म  के  नाम  पर  बाह्य  आडम्बर  और  कर्मकाण्ड  अधिक  किये  जाते  हैं   ।  कर्मकाण्ड  भी  जरुरी  है    लेकिन  एक  निश्चित  समय ,  24  घंटे  में  से  कुछ  समय   अपने - अपने  धर्म  के  अनुसार  कर्मकाण्ड  करके   शेष   सारा  समय   भ्रष्ट  तरीके  से  धन  कमाना ,  झूठ  बोलना , किसी  के  विरुद्ध  षड्यंत्र  रचना ,  किसी  की  खिल्ली  करना  , किसी  अपराधिक  कार्य  में  संलग्न  रहना   आदि  अनैतिक  कार्य  करने  से  क्या  आपके  भगवान  खुश  हो  जायेंगे   ?
  धर्म  चाहे  कोई  भी  हो  ,  किसी  भी  धर्म  में  अनैतिक  कार्यों  को  मान्यता  नहीं  दी  गई  है  ।  आज  संसार  में  अशांति  इसी  लिए  है   ,  लोग  कर्मकांड  करके ,  अपने  धार्मिक  पर्वों  पर   भक्ति  भाव  प्रदर्शित  करके  स्वयं  को   धार्मिक  समझने  लगते  हैं   लेकिन  अपना  आचरण  नहीं  सुधारते  ,  अपनी  ईर्ष्या,  द्वेष ,  लालच  ,  क्रोध ,  अहंकार  जैसी  दुष्प्रवृत्तियों  को  नियंत्रित  नहीं  करते    इसलिए  सबके  धार्मिक  होने  के  बावजूद  भी    संसार  में  इतना  अपराध ,  हत्या ,  मार -काट  है  ।  गरीब  किसी  को  लूटें  तो  एक  बात  समझ  में  आती  है  ,  अमीर,  पढ़े - लिखे    और  धार्मिक  कहे  जाने  वाले   भ्रष्टाचार  करके  अपने  ही  देश  की  सम्पति  को  लूट  रहे   और  गरीबों  को   लूटकर ,  उनका  हक  छीनकर  अपनी  तिजोरी  भर  रहे  हैं  ।
      इसी  कारण  लोग  तनाव  व  कुंठाग्रस्त  हैं  ,  अपराध  बढ़  गये  हैं  ।
संसार  में  शान्ति  हो  इसके  लिए  हमें  सच्चा  धार्मिक  बनना  होगा  ,  सच्चाई ,  ईमानदारी , धैर्य , संवेदना , कर्तव्य  पालन  आदि  सद्गुणों   को  ही   ईश्वर  की  पूजा  समझकर  अपने  आचरण  में  लायें  ।  सद्गुणों  को  अपनाने  से  हमें  ईश्वर  को  ढूंढने  किसी  धार्मिक  स्थान  नहीं  जाना  पड़ेगा  ,  वह  हमारे  ह्रदय  में  ही  जाग्रत  हो  जायेंगे  । 

No comments:

Post a comment