Wednesday, 23 December 2015

शान्ति व सुरक्षा के लिए जरुरी है ---- किसी भी लालच में न आयें

   आज  हम  देखते  हैं  कि   संसार    के  हर  कोने  में  अशान्ति  है  ,  इस  अशान्ति   में  भी   वे  लोग  ही  शान्ति  से  जी  रहें  हैं  जिन्हें  अपनी  मेहनत  और  ईश्वर  की  देन  पर  विश्वास  है  ।
  कुछ  समय  पहले  तक   डाकू  होते  थे  ,  उनका  भी  इमान  था  ,  वे    देवी  के    भक्त  थे   और  स्वयं  को  डाकू   स्वीकार  कर   वे  बीहड़ों  में  रहते  थे  ।   लेकिन  अब  अपराधी ,  भ्रष्टाचारी ,  अनैतिक  कार्य  करने  वाले    सब  लोग  समाज  में  ही   घुले - मिले  रहते  हैं  जिन्हें  पहचानना  बड़ा  मुश्किल  है  ।  और  उनका  यह  स्वभाव   होता  है  कि  अधिक  से  अधिक  लोग  उनके  गलत  कार्यों  में  सहयोग  दें   । सच्चाई  मिट  जाये ,  और  जंगल  राज  हो  जाये   ।
अपने  इस  उद्देश्य  की  पूर्ति के  लिए  वे  लालच  का  जाल  बिछाते  हैं  ,   व्यक्ति  अपने  छोटे - छोटे    लालच  की  वजह  से  सारे  जीवन  के  लिए  इनके  जाल  में  फंस  जाता  है    और  उनकी  कठपुतली  बन  कर  कार्य  करता  है  ।   फिर  उसके    पास    इनसे  बचने  का     कोई  रास्ता  नहीं  है  --- इनके  जाल  में  फंस  गये  तो  इनकी   कठपुतली   बनकर    उनकी  अपराधिक  गतिविधियों  में  सहयोग  करो    ।
  इसलिए  उचित  यही  है  कि   हम  अपनी  इच्छाओं  पर नियंत्रण  रखें ,  किसी  भी  तरह  के  लालच  में  न  आयें    ।
  

No comments:

Post a comment