Saturday, 19 December 2015

समाज में शान्ति के लिए युवा पीढ़ी को सही दिशा देने की जरुरत है

 युवाओं  में  ऊर्जा  बहुत  होती  है  लेकिन  यदि  उनके  जीवन  को  सही  दिशा  न  मिले  तो  वह  ऊर्जा  व्यर्थ  हो  जाती  है   ।  समस्या  ये  है  कि  इन  युवाओं  को  सही  दिशा  दे  कौन  ?  आज  व्यक्ति  इतना  स्वार्थी  और  लालची    हो  गया  है   कि    वह  इन  युवाओं  को  सही  दिशा  देने  के  बजाय  उनकी  इस  ऊर्जा  का  प्रयोग  अपने  स्वार्थ  के  लिए   करने  लगा  है  ।
  आये  दिन  हम  सड़कों  पर  देखते  हैं  कि  हजारों  की  संख्या   युवक    विभिन्न  मुद्दों  पर   अपने  नेताओं  और  धर्म  व  जाति  के  दिग्गजों  के  इशारे  पर   सड़कों  पर  चिल्लाते  हैं ,  नारेबाजी  करते  हैं ,  फिर  पुलिस  के  डंडे  खाते  हैं    ।   इनमे  से  अधिकांश  युवक  बेरोजगार  होते  हैं ,  ये  पढ़े - लिखे  तो  हैं   लेकिन  इनमे  कोई  विशेष  योग्यता  ,  कोई  तकनीकी  ज्ञान  नहीं  है  ,  इसलिए    इन्हें  रोजगार  मिलने   की  भी  कोई  उम्मीद   नहीं  है   ।  ऐसी  स्थिति  में    सड़कों  पर  चिल्लाना  ,  नारेबाजी  करना  ही  इनका  रोजगार  है   ।
   ऐसे  युवक  ही   जो  लम्बे  समय  तक  अपने  नेताओं  के  लिए  चिल्लाते  हैं ,  नारेबाजी  करते  हैं  फिर  भी  उनके  परिवार  के  पालन - पोषण   की   कोई   स्थायी  व्यवस्था  नहीं  होती    तो  फिर  इनके  जीवन  की  दिशा  गलत  हो  जाती  है  जो   सारे   समाज  के  लिए   अशान्ति  का  कारण  होती  है   । 

No comments:

Post a comment