Tuesday, 29 December 2015

लोग अशांत क्यों हैं ?

   जो  लोग  सन्मार्ग  पर  चलते  हैं ,  अपना  कर्तव्य  पालन  करते  हैं  ,  ईश्वर  ने  जो  दिया  उसमे  खुश  रहने  के  साथ   सही  दिशा  में  ,  सही  तरीके  से  आगे  बढ़ने  का  प्रयत्न  करते  हैं    वे  अपने  जीवन  में  शान्ति  से  रहते  हैं   |
  जब  व्यक्ति  अपनी  असीमित  इच्छाओं  के  लिए  अनैतिक  तरीके  से  धन  कमाने  लगता  है  ,  तभी  से  उसके  जीवन  में  अशान्ति  का  प्रवेश  हो  जाता  है    l  अपनी  बढ़ती  हुई  इच्छाओं  के  साथ  वह  धीरे - धीरे  नीचे  गिरता  जाता  है   l   दूसरों  को  तो  वह   अपनी  ताकत से ,  अपने  धन  के  बल  से   भयभीत  करता  है ,  लेकिन  उस  धन  के  नशे  से  उसकी  स्वयं  की  बुद्धि  भ्रष्ट  हो  जाती  है   | वह  अनजाने  में  स्वयं  अपने  लिए  ही   गड्ढा  खोद  लेता  है   |
  यदि  व्यक्ति  केवल  एक  सद्गुण  अपना  ले   कि----- धन   मेहनत   से ,  सच्चाई  और  ईमानदारी  से  कमाए   तो  थोड़े  - बहुत  अभावों  के  साथ   भी  जीवन  शान्ति  से  बीतेगा  |
  गलत  तरीकों  से  धन  कमाने  में  व्यक्ति  अकेला  नहीं  होता  ,  उसके  साथ  समाज  का  बहुत  बड़ा  हिस्सा  जुड़  जाता  है    और  वे  सब  एक -  दूसरे   को   संतुष्ट  करने  में  लगे  रहते  हैं   इससे  उनके  स्वयं  के  जीवन  की  सुख - शान्ति  समाप्त  हो  जाती  है   |

No comments:

Post a comment