Wednesday, 30 December 2015

अशान्ति का कारण है ---- ' जियो और जीने दो ' के स्थान पर ' मरो और मारो ' पर व्यक्ति उतारू है

समाज  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है  ---- जो  लोग  सब को  मिटाना   चाहते    हैं  ,  उन्हें  पता  नहीं  कि  लाशों  पर  राज  करने  में  कोई  आनंद  नहीं   ।
कुछ   लोग  ऐसे  हैं   जो  अति  आनंद  प्राप्त  करने  के  लिए  अनजाने  में  स्वयं  को  मार  रहे  हैं    ।   व्यक्ति  संसार  में  सुख  भोगना  तो  बहुत  चाहता  है  ,  लेकिन   वह  विभिन्न  व्यसनों  में  अपने  ही   शरीर   को  नष्ट  कर  रहा  है   तो  सुख  कैसे  मिलेगा  ?  इसलिए  सब  लोग  इस  अतृप्ति  की  वजह  से  अशांत  हैं  ।
  आज  समाज  का  बहुत  बड़ा  हिस्सा   सिगरेट ,  तम्बाकू  और  शराब  की  लत  का  शिकार  है   ।
लोगों  में  यह  समझ  विकसित  होनी  चाहिए  कि  आज  समाज  पर  बम ,  मिसाइल  से  आक्रमण  नहीं  है  ,  ऐसे  व्यसन  की  आदत  डालकर  समाज  का  एक  बड़ा  हिस्सा  अन्दर  से  कमजोर  होता  जा  रहा  है  ,  किसी  भी  संकट  का  सामना  करने  की  हिम्मत  नहीं  है   | 
 जिन  देशों  की  जलवायु  ठंडी  है   वहां  शराब   पीना  ज्यादा  हानिकारक  नहीं  होता  लेकिन  जहाँ  की  जलवायु  गर्म  है  वहां  शराब  जहर  है   ।  सिगरेट  और  तम्बाकू   का  सेवन  तो  प्रत्येक  व्यक्ति  के  लिए  हानिकारक  हैं  ।
प्रत्येक  व्यक्ति  को  अपने  जीवन  का  लक्ष्य  निर्धारित  करना  चाहिए  कि   ---- विभिन्न  व्यसनों  में  लिप्त  होकर  अपने   शरीर  को  नष्ट  करना  है      या   संसार  में  कुछ  सकारात्मक  कार्य  कर के   दीर्घ  अवधि  तक  सुख  से  जीना  है   ।
 ऐसे  व्यसनों  की  वजह  से  ही  परिवार  टूट  रहे  हैं   ।  हर  व्यक्ति  के  भीतर  एक  आत्मा  होती  है  जो  पवित्र  होती  है    और  सही  और  गलत  जानती  है   ।   ये  व्यसन  ऐसे  हैं  जो  व्यक्ति  को  सीढ़ी - दर - सीढ़ी  नीचे   गिराते   जाते  हैं  ,   इससे   व्यक्ति  में   हीनता  की  भावना  पनपती  है  ,  आत्मविश्वास  कम  होता  है  और  पारिवारिक  कलह  होती  है    । 

No comments:

Post a comment