Thursday, 24 December 2015

विवेक जाग्रत होने पर ही समाज में शान्ति होगी

 अनैतिक  कार्यों  और  अपराध  को  कानून  व  समाज  मान्यता  नहीं  देता    इसलिए  ऐसे  कार्य  व्यक्ति  छिपकर  करता  है    और  समाज  में  स्वयं  को   एक  भला  इनसान   घोषित  करने  का  प्रयत्न  करता है  |  ऐसे  लोगों  की  संख्या  इतनी  अधिक  हो  गई  है  कि  कौन  किसे  सजा  दे  ?
  अब  जरुरत  इस  बात  की  है  कि  गलत  राह  पर  चलने  वालों   में    किसी  तरह  सद्बुद्धि  आ  जाये  और  वे   बुराई  का  रास्ता  छोड़कर   सन्मार्ग  पर  चल  पड़ें   !
      जो  लोग   अपराध  आदि  गलत  व  अमानवीय  कार्यों  को  करते  हैं    तो  उनके  पास  धन - दौलत ,  जमीन - जायदाद ,  वैभव - विलास   सब  बहुत  होता  है  ,  उनके  पास  यदि  कोई  अभाव  है  तो  वह  है ----- ऐसे  लोगों  के  पास  सद्बुद्धि    नहीं  होती   |  इस  कारण   सब  होने  पर  भी  ये  लोग  अतृप्त  व  अशांत  रहते  हैं    |   छोटे  से  छोटा  अपराधी  भी  आतंक  के  बल  पर  अपने  क्षेत्र  पर  राज  करना  चाहता  है  ,  पर  वास्तव  में  वे  इंसानों  पर  नहीं  चलते - फिरते  बुत पर ,  पुतलों  पर  राज  करते  हैं  ,  इसीलिए  अतृप्त  रहते  हैं    और  अपना  दायरा  बढ़ाने  मे  लगे  रहते  हैं  |
   यदि  इन  लोगों  में  सद्बुद्धि  आ  जाये   और  ये  अपनी  सम्पति  को  लोक - कल्याण  के  लिए  प्रयोग  करें  .  धर्मशालाएं  बनवाएं,  सड़क  के  किनारे  वृक्ष  लगवाएं ,  गरीबों  के  लिए  धर्मार्थ  अस्पताल  व  नि:शुल्क  शिक्षा  का  प्रबंध  करें  ---- ऐसे  बहुत  से  परोपकार  के  कार्य  करें    तो  उनका  जीवन  सार्थक  हो  जाये ,  उनके  मन  को  शान्ति  मिले  और    समाज  में  भी  शान्ति  हो  |

No comments:

Post a comment