Tuesday, 8 December 2015

समाज में अशान्ति है क्योंकि पापी का , अपराधी का समाज ने बहिष्कार ही नहीं किया

आज  से  कुछ  दशक  पूर्व   लोग  अपराधियों  का , बेईमान  व  अनीति  करने  वालों  का  सामाजिक  बहिष्कार  करते  थे  ,  ऐसे  लोग  जिनका  चरित्र  अच्छा  नहीं  है  उनके  साथ  उठना - बैठना   उचित  नहीं  समझते
 थे  ।  इस  कारण    अधिकांश  लोग  गलत  रास्ते  पर  चलने  से  ,  पाप  और  अपराध   करने  से   डरते   थे  ।
लेकिन  अब  ऐसा  नहीं  है   ।
अब  तो   ऐसे  लोगों  से  डरकर   या  लाभ  उठाने  के  लिए   अनेक  उनके  समर्थक  बन  जाते  हैं   ।  कानून  से  भी  सजा  मिलने  में  बहुत  समय  लगता  है  ,   सजा  कम  मिलती  है  ,  अनेक  अपराधी  बच  जाते  हैं  ।
  ऐसे  ही  लोग  ढीठ  व  उच्छ्रंखल  होकर  समाज  में  अशांति  उत्पन्न  करते  हैं  | 
      संसार  में  शान्ति  तभी  होगी    जब  नैतिकता  के  आधार  पर   अच्छे  व  बुरे  व्यक्ति  को  परिभाषित  किया  जायेगा  ।   जो  लोग    ऐसे   अनैतिकता  की  राह  पर  चलने वालों  का  समर्थन  करते  हैं  ,  उन्हें  जागरूक  होना  पड़ेगा   कि  ऐसे  लोग  किसी  के  सगे  नहीं  होते  ,  वे  स्वार्थी  होते  हैं  अपने  समर्थकों  का  शोषण  करने  और  अहित  करने  से  नहीं  चूकेंगे  |
   

No comments:

Post a comment