Saturday, 26 December 2015

व्यक्तिगत जीवन में शान्ति होने पर ही समाज में शान्ति होगी

    सच्चाई ,  ईमानदारी  और  कर्तव्यपालन   इन   गुणों  का  जहाँ  भी  अभाव  है  वहीँ  अशान्ति  है    ।     शिक्षा ,  व्यवसाय ,  पारिवारिक  जीवन ,  घर ,  ऑफिस  ----- जीवन  का  कोई  भी  क्षेत्र  हो  ,  इन  गुणों  का  अभाव    होने  पर  अशान्ति  ही   मिलेगी  ।   चाहे  माता - पिता  हों  ,  शिक्षक  हों  या  कार्यालय  प्रमुख  हो  ,  बॉस  हो  ---- इनका  आचरण  ही  पक्षपातपूर्ण  हो  ,  वे  स्वयं   चरित्रवान  न   होंगे  तो  किसी  को  क्या  दिशा  दे  पाएंगे   ?   आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  इसी  वर्ग  में  सुधार  की  है    l   समाज  के  जिम्मेदार  वर्ग  को   स्वयं   के  ह्रदय   को  टटोलने  की  जरुरत   है  ,  आने  वाली  पीढ़ी  को  दोष   देने  से  समस्या  हल  नहीं
 होती   ।  मनुष्यों  में  अनुकरण  करने  की  आदत  होती  है  ,  बुराई  का  अनुकरण  वह  बहुत  जल्दी  करता
   है   ।  स्वयं  का  सुधार  बहुत  जरुरी  है  ।

No comments:

Post a comment