Tuesday, 15 December 2015

सफल होने के लिए कर्मयोगी बने

    जीवन   में ,  इस  संसार  में    सफलता   प्राप्त  करने  के  लिए    हमें  सांसारिक  और  आध्यात्मिक  दोनों  क्षेत्रों  में  प्रयास  करना  होगा  ।   सांसारिक  क्षेत्र  में  ----    हम  कर्तव्य  पालन  करें  ,  प्रत्येक  कार्य  को   ईश्वर  की  पूजा  समझकर  ,  मन  लगाकर  रूचि  से  करें  ।   और  आध्यात्मिक  क्षेत्र  में  ----   24  घंटे  में  से  कुछ  समय   हम  मौन  रहकर  ईश्वर  में  ध्यान  लगायें    कोई  भी  सत्कर्म  नियमित  रूप  से  करें   |
ऐसा  करने  से    हमारा  विवेक  जाग्रत  होता  है  ,  कठिन  परिस्थितियों  में  हम  सही  निर्णय  ले  पाते  हैं   ।
सत्कर्म  में  वह  शक्ति  है  जो   मुसीबतों  से  हमारी  रक्षा  करती  है    ।
  कर्म  करते  हुए  जब  हम  ईश्वर  को  याद  करते  हैं,  सच्चाई  और  ईमानदारी  से  अपना  काम  करते  हैं   तो  वह  कर्म  ही  ईश्वर  की  पूजा  बन  जाता  है   और   फिर   सफलता  निश्चित  है      । 

No comments:

Post a comment