Monday, 14 December 2015

परिस्थितियों के अनुसार मन को समझाएं

  आज  मानव  समाज  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  अपनी  चरम  सीमा  पर  है  ,  कुछ  दशक  पूर्व  संसार  विश्व  युद्धों  में  उलझा  था  ,   अब  यह  युद्ध  इनसान  के  मन  में  है  ,   कितना  धन  कमा  लें  ,   तरीका  चाहे  कोई  भी  हो   बस  !  रूपये  पैसे   से   घर ,  अलमारी ,  बिस्तर ,  दीवार  सब  कुछ  भर  लें  ।  धन  कमाने  में  जो  सहयोग  करे ,  उसी  के  साथ  काम  करें ,  उसी  को  महत्वपूर्ण  कार्य  सौंपे  जाएँ ,  जो   ईमानदारी ,  सच्चाई  से  कार्य  करे  ,  उसका  सब  लोग  मिलकर  बायकाट  कर  दें  ।   ईमानदार  व्यक्ति   आज  अछूत   बन  गया  है  ।
   धरती  पर  बेईमान  हैं  तो  ईमानदार,  सद्गुण संपन्न  भी  बहुत  लोग  हैं ,  यह  वक्त  का  तकाजा  है  कि  सद्गुणों  की  कदर  नहीं  है  ,  सच्चे  लोग  संगठित  नहीं  हैं  ।  लेकिन  ऐसी  स्थिति  में  अपने  मन  को  समझाना  बहुत  जरुरी  है   ।     आज  चिकित्सा  के  क्षेत्र  में  कितनी  प्रगति  हो  गई  ,  लेकिन  बीमारियाँ  बढ़ती  जा  रहीं  हैं   ।  बड़े  व  महंगे  अस्पताल  में  गरीब  व  मध्यम  वर्ग  के  लोग  तो  जा  ही  नहीं  सकते  ,  वे  सब  अमीरों  से  भरे  हैं ,  एक  भी  बिस्तर   शेष  नहीं  बचा    और  बीमारियाँ  भी  ऐसी  कि  डाक्टर  भी  नहीं  समझ  पाते   ।
जो  लोग  अनैतिक  तरीके,  से  धन  कमाते  हैं ,  उनके  जीवन  में  शान्ति  नहीं  है ,  बीमारी ,  पागलपन ,  अकाल  मृत्यु ,  आत्म हत्या    जैसी  दुःखद   घटनाएँ  ज्यादा  होती  हैं   ।  जिस  दिन  व्यक्ति  समझेगा  कि  ये  सारे  दुःख  उसे  किसी  और  ने  नहीं  दिए    यह  तो  उसकी  अनैतिक  कमाई  है  जो  विभिन्न  तरीकों  से  बाहर  निकल  रही  है  ,  संभवत:  उस  दिन  वह  अपने  जीवन  की  दिशा  बदले  ।
 सच्चे  और  ईमानदार   लोग   ऐसे  भ्रष्टाचारियों  के  किसी  भी  प्रहार  से  परेशान  न  हों  ,  अपना  कर्तव्य  पालन  करते  हुए  ,  ईश्वर  के  विश्वास  के  साथ  सुकून  और  शान्ति  का  जीवन  जियें   तो   अन्य   लोगों  को  भी  इस  राह  पर  चलने  की  प्रेरणा  मिले   । 

No comments:

Post a comment