Friday, 18 December 2015

महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों को रोकने में समाज की भूमिका

    स्वतंत्रता  के  इतने  वर्षों  बाद  भी  लोग  जाति  व  धर्म  के  नाम  पर  दंगा  करते  हैं  ।  जब  भारत  में  मुगलों  का  शासन  था  , फिर  अंग्रेजों  का  राज  रहा    तब  महिलाओं  के  प्रति  होने  वाले  अपराधों  के  लिए  सबने  मुगलों  व  अंग्रेजों  को  दोष  दिया  और  उनकी  ऐसी  ओछी  हरकत  पर    देशभक्तों  ने   उन्हें  सबक  सिखाया  ।   अब  वर्तमान  समय  में  जब  हम  आजाद  हैं ,  ऐसे  समय  छोटी  बालिकाओं ,  छात्राओं  और  महिलाओं  के  प्रति   जो  अमानवीय  व  नृशंस   अपराध  होते  हैं    उनके  संबंध   समाज  में  यह  तथ्य  स्पष्ट  होना  चाहिए    ऐसे  अपराध     ------  हिन्दू ,  मुस्लिम ,  सिख ,  ईसाई   ----  किस  जाति  और  धर्म  की  महिलाओं  के  प्रति  ज्यादा  होते  हैं    ।   इसमें  संलग्न  अपराधियों  को  तो   न्यायिक  प्रक्रिया  के  अनुसार  जब  भी  सजा  मिले ,   उसके  पहले  अपनी  जाति  व  धर्म  से  प्रेम  करने  वाले ,  धर्म  व  जाति  के  नाम  पर  लड़ने  वाले  ,  उसके  रक्षक  --- अपनी  जाति   व  धर्म   की   नारी   की  रक्षा  करने  को  जागरूक  हों   ।
     जब  तक  समाज  में  जागरूकता  नहीं  होगी    ऐसे  अपराधों  के  कारण  प्रत्येक  परिवार   असुरक्षित  ,  तनाव  व  कुंठाग्रस्त   रहेगा    । 

No comments:

Post a comment