Wednesday, 16 December 2015

समाज में शान्ति के लिए सुरक्षा भी जरुरी है

 जैसे  - जैसे  हम  विकास   की  दिशा  में  आगे  बढ़ते  जा  रहें  हैं  ,   लोगों   का  जीवन  स्तर ,  सुख - सुविधाएँ  बढ़ती  जा   रहीं  हैं   | यदि  कहीं  कुछ  सुधार  नहीं  हुआ  तो  वह  है  ------ पुरुष  वर्ग  की  मानसिकता  ।  युगों  से  नारी  को  दासी  बना  कर   रखा ,  विभिन्न  तरीकों  से  उस  पर  अत्याचार  किये    ।   अनेक  समाज  सुधारकों  के  प्रयासों  से   अब  नारी  को  अधिकार  मिले  हैं   ।    अब   नारी   ,   पुरुष   समान  पढ़ - लिख  कर  विभिन्न  क्षेत्रों  में  आगे  बढ़  रही  है   ।  इससे  एक  नयी  समस्या  उत्पन्न  हो  गई  ---
  अब   पुरुषों  में  नारी  को  सुरक्षा  देने  का  जो  भाव  था  वह  समाप्त  हो  गया  और  उसका  स्थान   ईर्ष्या - द्वेष  ने  ले  लिया   ।    विभिन्न  कार्य स्थलों  पर  महिलाओं  को  अपने  समान  वेतन   प्राप्त  करते  देख  उनकी  ईर्ष्या  बलवती  हो  जाती  है    और  फिर  वे  तरह - तरह  से  महिलाओं  को    उत्पीड़ित  करते  हैं  ।
    ईर्ष्या -द्वेष   के  कारण  ही   समाज  में  महिलाओं  के  प्रति  इतने  क्रूर  अपराध  होते  हैं  ।
  पुरुष  प्रधान  समाज  है    संभवत:  इसलिए  ऐसे  अपराधियों  को   शीघ्र   व  कठोर  दंड  नहीं  मिलता  |
                   नारी  और  पुरुष  दोनों  एक  दूसरे  के  पूरक  हैं   ।  और  परिवार ,  समाज  दोनों  की  सुरक्षा  पर  टिका  है  ।  आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है  कि  नारी  स्वतंत्र  हो  ,  लेकिन  स्वच्छंद  नहीं  ।
  और  पुरुष  ,  नारी  की  सुरक्षा  ,  उसके  चरित्र  व  उसके  सम्मान  की  सुरक्षा   को  महत्व  दे  ।  तभी  हमारी  संस्कृति  सुरक्षित  रह  सकती  है  ।  अन्यथा  वह  दिन  दूर  नहीं   जब    यही  पुरुष  वर्ग  पवित्र  बेटी --- पवित्र   पत्नी  व   पवित्र  कुलवधू  के  लिए  तरस  जायेगा   ।  महान  आत्माएं   पवित्र  कोख  से  जन्म  लेती  हैं  ,  वे  भी   इस  धरती  पर  आने  को  तरसेंगी   | 
  आज   पारिवारिक  कलह ,  वृद्धों  की  समस्या    ऐसे  ही  अनैतिक   वातावरण   की  उपज  हैं  ।
  

No comments:

Post a comment