Sunday, 20 December 2015

समाज में शान्ति के लिए संस्कृति की रक्षा करनी होगी

  कोई  भी  संस्कृति  तभी  तक  जीवित  रह  सकती  है  जब  उस  समाज  के  पुरुष  ऊर्जावान  हों  ,  उनका  चरित्र  श्रेष्ठ  हो   और  नारी  स्वतंत्रता  के  साथ  अपनी  मर्यादा  में  हो   ।  लेकिन  आज   नारी  और  पुरुष  दोनों  पर  ही  संकट  के  बादल  है   l   आज  समाज  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है  ,  हम  संस्कृति  के  प्रतीकों  की  रक्षा   और    उनकी  देख - रेख  पर   तो  बहुत  धन  खर्च  करते  है    किन्तु  जीवित   नारी - पुरुष ,  युवा  पीढ़ी ,  छोटे  बच्चे  जो  देश  के  कर्णधार  हैं    उनकी  सुरक्षा ,  उनके  चरित्र - गठन  पर  ध्यान  नहीं  देते   ।
           आक्रमण  केवल  तीर - तलवार  ,  टैंक  व  बम  से  ही  नहीं  होते  ,  किसी  समाज  का  चरित्र  हनन  हो  जाये  तो  वह   वैसे  ही  हार  जाता  है   ।    मनुष्य  का  मन  चंचल  होता  है  ,  मन  में  कामना,  वासना  बलवती  होती  है  ,  उस  पर  से   अश्लील  चित्र ,   अश्लील  फिल्मे ,  गन्दा  साहित्य   युवकों  का  तेज  छीन  लेते  हैं ,  उनका  ओज ,  तेज  सब  नष्ट  होने  लगता  है   ।  ऐसे  में   महिलाओं  के  प्रति  अपराध  हो  या   अन्य   कोई  अपराध  हो   उनमे  उस  अन्याय  का  सामना  करने  की  हिम्मत  नहीं  होती   ।
       ऐसे  वातावरण  में  मोबाइल  आदि  साधनों  से  बच्चों  की  मानसिकता  भी  प्रदूषित  हो  जाती  है  ----
पहले  युद्ध  मैदान  में  होते  थे  ,  महिलाएं  घरों  में  सुरक्षित  होती  थीं   लेकिन  अब  यह  एक  सपना  हैं    ,
 अब  युद्ध  हो  या  दंगा  ,  दुश्मन  का  आक्रमण   चरित्र  पर  होता  है  ।
आज  सद्बुद्धि  की  सबसे  ज्यादा  जरुरत  है   ।   समाज  को  जागरूक  होना  पड़ेगा  ,  इस  सत्य  को  समझना  होगा   कि  अपना  ही  कीमती  समय  और  अपनी  तेजस्विता  को  नष्ट  कर  दूसरों  को  अमीर  बना  रहे  हैं   ।



















No comments:

Post a comment